किरायेदार के लंड से चूत चुदवाई

पंजाबी सेक्स कहानी एक तलाकशुदा भाभी की है। उसकी चूत लंड मांग रही थी। उसने एक किरायेदार घर में रख लिया. किरायेदार के लंड से मैं अपनी चुत मरवाना चाहने लगी।

दोस्तो, मेरा नाम रानी है और मेरी उम्र 40 साल है।
4 साल पहले मेरा तलाक हो चुका है। हुण मैं कल्ली ए रहंदी आँ!

मेरी पंजाबी सेक्स कहानी पढ़ें.

मैनु मेरे पति दी प्रॉपर्टी विचो एक घर ते कुज कैश मिलया सी।
ते मैं हुण उस्से घर विच रहनी आ।
40 साल दी होण दे बावाजूद मैं देखण च सोहणी सुणखी भरवे शरीर दी आं।

मेरा कद 5.6 इंच, भरवे ते गोल गोल मम्में, ते भरी पिछ आजकल दीयां कुड़ियां नु वी मत पौंदे ने। मेरे मुहल्ले दे नवी उमर दे मुंडया तो लेके बुढ़यां तक मेरे ते मरदे ने। जद वी मैं हार-सिंगार करके घरो जॉब ते जानि आ ते कई जणेया दे लनखड़े करवा दिनी आ।

नवी उमर दे मुंडे ता मेरे बारे सोच के रात नु मुठ मारदे ने।
पर मैं किसी नु कोल फटकण तक नी दींदी क्यूंकि मुहल्ले च मैं काफी शरीफ बण के रहंदी आ।
मेरा घर काफी वड़्डा आ, डबल स्टोरी पोर्शन है।

अजकल मेरा इन्ने वड्डे घर च कल्ली दा दिल वी नी लगदा सी।
ते मैं किरायेदार रखण लई एक एड न्यूजपेपर च दे दित्ता।

थोड़े इ दिना विच मेरा घर इक फैमिली ने किराये ते ले लया ते ओ शिफ्ट वी हो गए मेरे घर!

दो जणे ए सी, पति ते पत्नी, दोनों इ जॉब करदे सी।
पति 9-5 दी जॉब करदा सी ते घर वाली दी एक वीक मॉर्निंग ते एक वीक रात दी ड्यूटी हुंदी सी।
घर वाली दा नाम सविता ते ओ दे पति दा नाम साहिल शर्मा सी।

साहिल दी कद काठी वडया सी ते नचर वी मिलनसार सी।
ओस दे ओलट ओ दी घरवाली काफी एटीट्यूड वाली सी।

साहिल मैनु बोत सोहणा लगया सी पर मैं कदे ओ दे बारे गल्त नी सी सोचया।

पर जद साहिल ने मैनु पहली बार देखया सी ता ओस नु देख ई समजगी सी के ओ मेरे च काफी इंटरेस्टेड आ।

दो महिने हो चुके सी ओना नु रहंदेया।
एन्ना दिन विच ओना नु मैं काफी वारी लड़दे देखया।

मैं समझ गयी सी के साहिल अपनी पत्नी तों ज्यादा खुश नी सी।
अक्सर इ टेंशन च रहंदा सी। मैं वी अपणे आप नु काफी कल्ला महसूस कर रही सी।

मेरा दिन ता किवे व लंग जांदा सी पर रात नी सी लंगदी, क्यूंकि मेरी अग्ग वरगी जवानी रात नु होर वी तपण लग जांदी सी।
ते मैंनु आपणे बेड ते एक मर्द दी कमी महसूस हुंदी सी।

मेरे पाटण चो ते मेरी फुद्दी चो सक निकलण लगदा दे, ते मेरे गोल गोल भारी मम्में तण जांदे सी।

मैं काफी बेचैन हो जांदी सी।
फिर मैनु अपणी सलवार विच हथ पा के अपणी फुद्दी नु ते फुद्दी दे शोले नु हाथां नाल मसल के अपणे आप शांत करदी सी।
क्यूंकि चार साल हो गए सी मैनु लन दा स्वाद ए सी मिलया पर मैं लन लेण लयी तड़फ रही सी।

आपदे हाथां नाल ओ मजा नी सी औंदा जो मरद दे हाथ लौण नाल औंदा।

एक दिन रात नु मैं रशोई विच खाणा बणा रही सी।
अचानक गैस सिलेंडर खत्म हो गया ते मेरे घर होर सिलेंडर नी सी।

मैं अपणे आले दुवाले दे सारे घर चो पता किता, कितो वी सिलेंडर नी मिलेया।
ते मैं परेशान हो गयी।

फिर मैं सोचया क्युं ना किरायेदार नु पुछ लेवा?

पर मैं हिचकिचा रही सी, भुख वी बोत लग्गी सी।
फिर मैं हिम्मत करके उप्पर चली गयी पुछण लयी।

मैं आवाज लगायी ते साहिल बाहर आया।
मैं पुछया- थोआडे घर एक्स्ट्रा सिलेंडर हैगा? मैं खाणा बणौना आ!
ओ कहंदा- सिलेंडर ता है नी, जे थौनु माइंड ना होवे ता तुसी साड्डे घर खाणा बणा लेओ, ते मेरे लयी वी बना देना।

मेरे कोल होर कोई ऑप्शन नी सी ते मैं कहता- ठीक आ।

मैं अपणा सारा समान उप्पर ओना दी किचन विच ले आयी ते खाणा बणौण लग्गी।
साहिल बाहर चेयर ते बैठा अपणे लैपटॉप ते काम कर रहा सी, नाले चोर अख नाल मैनु देख रहया सी।
मेरे चुतड़ां वल बड़ी प्यासी जी नजर नाल देख रहया सी, जिवे सोच रहा होवे हुण ई मैनु एह दी मिल जै।

मैं दुपट्टा लाह के किचन च ई रखता, मेरे सूट दा गला वड्डा होण करके मेरे गोल मटोल ते गोरे गोरे मम्में मेरे काले सूट दे गलमे च दिख रहे सी।
साहिल बहाने नाल किचन च आ के पुछण लगा- थौनु कोई हेल्प दी लोड ता नी?
मैं अट्टा घुन रही सी, जिस करके मेरी छाती हिल रही सी।

मेरी ओ दे वल पीठ सी ते ओ मैनु भुखिया नजरां नाल देख रहा सी चोरी चोरी।
पर मैं ओदे कच्छे विचो ओ दा खड़ा लनदेख लया सी।
जिस नाल मैनु वी थोड़ी थोड़ी मस्ती जी चढ़न लग्गी।

मैं छेति छेति खाणा बना के नीच्चे आ गई ते खाणा खा के सोण चली गयी।
पर रोज दी तरां बेचैनी लग गयी मैनु।

पहला ता मैं अपने हस्बेंड दे लन बारे सोच के आपदी फुद्दी नु शांत कर लेंदी सी, पर ओस दिन जद मैं अखां बंद करके सोचण लग्गी ता मैनु साहिल दा खड़ा लन दिखण लग गया।

हुण मैं होर बेचैन हो उठी।
मेरी फुद्दी साहिल दा लन मंग रही सी।
पर मेरी शर्म और हिचकिचाहट ने मेरे पैर रोक रहे सी।

मैं फिर अपने नु शांत करण लयी अपनी फुद्दी ते हथ ला सहलौण लग गयी।
मैनु बोत स्वाद आ रेहा सी, मेरियां ससकियां निकल रही सी- म्मम … आआआ … सीसीसीसी… करके मैं फुद्दी छेति छेति रगड़ रही सी।

फिर मैं कपड़े पा के बाहर आ गयी ते वेहडे च टहलण लग गयी।
इन्ने नु मैं वेखया साहिल वी कोठे दे जंगले नाल लग के खड़ा सी।

ओ मैनु देख खुश हो गया, ओस दे चेहरे तो पता लग रहा सी।
मैं इन्नी मस्त होई पाई सी के मैं एह सोचण लग्गी कि काश साहिल मेरे कोल अपने आप ई आ जावे।
जद नु साहिल मैनु आवाज दित्ती- मैडम, तुसी वी उप्पर आ जऊ, मैं कॉफी बणाई आ।

मैं उप्पर चली गयी।
असी दोवे कॉफी पी रहे सी।

मैं रेड कलर दी नाइटी पाए होई सी जिस च मेरी बॉडी बड़ी सेक्सी लग रही सी।

छत ते हवा ठंडी चल रही ते साड्डे दोना दे शरीर गर्म होए पए सी।
साहिल मैनु पुछण लगा- तवाडा डिवोर्स कद होया ते क्यू हो गया?
मैं ओस नु दसया वी मेरा हस्बेंड कई कम्म नी करदा, मेरी ई जॉब ते घर चलदा। फिर ओ मैनु मारदा वी सी। इस करके मैं ओस नु छड दा।

साहिल ने मैनु फिर पुछया- थौनु कदे कोई साथी दी लोड नी महसूस हुंदी?
मैं कहा- हुंदी ता है पर इक वारी धोखा खा हुण किसे ते यकीन नी हुंदा क्यंकि सब औरत नु सेक्स करण दी मशीन ई समझदे ने, पर प्यार कोई नी करदा।

ओ वी फेर इमोशनल हो के अपणे बारे दसण लगया कि ओ वी अपनी वोट्टि तों ज्यादा खुश नी है, ते गल्लां गल्लां च कहंदा कि ओ ता मैनु हथ वी नी लौण दिंदी। जिस करके ओना दा रिलेशन कदी खराब हो गया।
हुण मैं समझ गयी सी ओ मैनु की कहण दी कोशिश कर रहा।

मैं ज्यादा देर ना करदे होए ओ नु जफ्फी पा ली ते ओ दे लिप्स ते आपदे लिप्स रख दित्ते।
ओ ता जिवे बहाना ई लभदा सी, ओ ने मैनु चक के कंधे नाल ले लया, असि हवस च एक दूजे नु चुम्मण लग गये।

फिर ओ ने मेरी लत्त चुक के अपदे लक नाल ले लयी जिस नाल ओ दा लन मेरी फु्द्दी नाल लग गया।

हुण मैनु होर वी नजारे औण लग गए।
मैनु मस्त होई देख ओ मेरिया लात्तां च बैठ गया ते मेरी लत्त नु चेयर ते रख दित्ता, नाले मेरी अंडरवियर वी उतार ते मेरी फुद्दी चाटण लग गया।
जिस नाल मेरी सिसकियां दी आवाज औण लग गयी- आह्ह … स्सीसी सीसी … हह्हह!

मैं ओस नु कह रही सी- मेरी फुद्दी चंगी तरा चाट, चार साल तो एह प्यासी आ, अज एह ते बहार आयी।
ओ ने अपणी जीभ मेरी फुद्दी च पा ते हाए हाए … ओ दी जीभ नाल वी लनवाले नजारे औंदे।
मैनु बोत स्वाद आ रेहा सी।

मैं ओनु खड़ा करके ओदे कच्छे नु खिच के थल्ले करदा ते ओ दे लननु मुह च पा के चूसण लग गयी।

ओ दे लनदे चोपे मैनु होर मस्त करी जा रहे सी, मेरी फुद्दी पूरी गीली हो गयी।
साहिल वी पूरा मस्त हो गया सी।
ओ मैनु कहंदा- अज तक मैनु इन्ने स्वाद नाल किसे नी दित्ती।

फेर ओ कहण लगया- तेरे वरगी जनानी ता मैं लभदा सी, मैं ता जिस दिन ता तैनु देखया ए, मैं ओस दिन दा तेरी मारण नु फिरदा सी।
मैं वी कही- ता देखदा की? मार ल अज, जिन्नी मेरी मार हुंदी आ, तेरे कोल मोक्का आ, फेर पता नी एह पल मुड़ के आवै जै ना। मेरी आज तसल्ली करवा दे पूरी।

ओ मैनु चक के रूम च ले गया, मैनु कहंदा कि घोड़ी बण जा।
मैं बेड ते हथ रख के बुंद ओ दे वल कर ली।

ओ ने अपणा मोटा लनमेरे अंदर पौण लग गया।
जद ओ दा मोटा लनमेरे अंदर जा रहा सी, मैनु होर नजारे आ रहे सी।

जींवे जींवे ओ लन नु मेरे अंदर धका रेहा सी, मेरी फुद्दी दे मसल्स ओमे ओमे खुल रहे सी।
इस करके मैनु होर मजे आ रहे सी।

ओ ने फिर एक झटका मारया ते अपना सारा लन अंदर धका दित्ता ते मेरी आह्ह … निकल गयी।
मैं अपणिया सारिया लात्तां खोल लिया ते अपणें चितड़ा नु वी हाथां नाल खिंच लेया ता के लन पुरा मेरे अंदर जा के।

फिर ओ जोर जोर नाल धक्के मारण लग गया।
मैं वी ओ नु हाला शेरी दे रही सी- फक मी! आह्ह … साहिल … फक!
जिस नाल ओ नु होर जोश आ रहा सी।

क्यूंकि मैनु वी अज लन मिलेया चार साल बाद, मैं वी पूरा लनदा स्वाद लेना सी।
फिर कुज चिर पीछे धक्के मारण तो बाद ओ मैनु बेड ते पा के चोदण लग गया।

मैं फिर अपणी लात्तां चौड़िया कर लेया।
ओ दे धक्के मारण नाल जो स्वाद मैनु आ रहा सी, मैं लफ्जां च ओ नु बयां नी कर सकदी।
साहिल पूरा पसीना पसीना हो गया सी।
पर मेरे नजारे होर वढ रहे सी।

20 मिनट बाद साड्डा दोन्ना दा हो गया।
साहिल मेरे ते ई गिर गया।

असि दोवे हांफ रहे सी।

चार साल बाद मेरी फुद्दी नु लनदा स्वाद मिलया सी।
होर साहिल दा लन अंदर लेण बाद मैं अंदर तौ खुश हो गयी सी।
चोदण दे प्रोग्राम बाद असि एक दूजे ऊपर लेटे रहे सी।

मैं ओना दी पीठ नाले हाथ नु सहलौण लग रही सी। ओ हुण तक गहरिया साहां लेण होंदा सी।
फेर असि अलग हो गए सी।

साहिल साइड हुंदा मेरे कोल लेट गया सी।
मैनु ओ दी जंघा च अपणी लत्त चढ़ा दित्ती ते ओ दी छाती च सिर पा के लेट गयी सी।
ओना नु वी मेरी फुद्दी चो हथ रख लिया ते फुद्दी नु सहलौण लगया।

साहिल दे लन नाल चुदण बाद हुण मैंनु ओ दे रथ नाल फुद्दी सहलौण दा स्वाद मिल रहया सी।
इस करके मैं पहली वारी अपणे किरायेदार दा लन लेया सी।

हुण मैं कई वारी रात नू ओ दे नाल जा जाके चुदवाण लग गयी।

ओनु वी मैनु हर एंगल ते पोज च चोदया सी।
पंजाबी सेक्स करके हुण मैं बोत खुश रहण लग गयी।
मैनु लंड दी लोड पूरी हो गयी सी।

थौनु मेरी पंजाबी सेक्स कहानी किवै लगया, मैनु जरूर दसणा।
तुसि मेरी ईमेल आईडी ते मैसेज वी सेंड कर सकदे आ, ते स्टोरी बाद कमेंट बॉक्स च कमेंट वी कर सकदे आ।
[email protected]

About Abhilasha Bakshi

Check Also

कुंवारी बहन चुदी बरसात में

Xxx रेन सेक्स कहानी में मैं अपनी भाभी को चोदता था तो मेरे भाभी मेरी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *