तीन नंगी लड़कियों के साथ सेक्स का मजा (Sexy Nude Girls Ki Chudai Kahani)

सेक्सी न्यूड गर्ल्स की चुदाई का मजा मुझे बुआ के घर में मिला. उन तीन लड़कियों में एक बुआ की बेटी थी, एक उसकी सहेली और तीसरी सहेली की बहन थी.

प्यारे दोस्तो, कैसे हो आप सब!
मैं आप का दोस्त सैम आपके सामने अपनी ज़िंदगी की एक सच्ची घटना का अगला भाग लेकर हाज़िर हूँ.

जैसा कि आपने पिछली कहानी
फुफेरी बहन की सहेली चुद गयी
में पढ़ा था कि कैसे बर्थडे पार्टी में सीमा और मेरे बीच हुए सेक्स संबंध बने. फिर मैं और तृषा कुछ समय बाद घर पहुंच गए.

अब आगे सेक्सी न्यूड गर्ल्स की चुदाई:

घर पहुंचने पर हमने देखा कि सब लोग सो चुके थे.
तो तृषा ने दरवाजे के पास रखे फ्लावरपॉट के नीचे से चाबी निकाली और दरवाजा खोला.

तृषा ने काफ़ी बियर पी रखी थी और मैं काफ़ी थका हुआ था.
मैं भी सीधा अपने कमरे में गया और गर्म पानी से शॉवर लेकर सो गया.

जब मैं सोकर उठा तो दोपहर के डेढ़ बज चुके थे.
मैंने उठकर स्नान किया ओर सीधा नीचे हॉल में पहुंच गया जहां बुआ, तृषा और निशा बैठ कर कॉफी पी रही थीं.

मुझे देख कर सबने एक साथ जोर से ‘गुड आफ्टरनून.’ कहा.

मैंने जाते ही बुआ के पैर छूकर आशीर्वाद लिया और बुआ ने मेरे माथे पर किस कर दिया, मेरे सिर पर हाथ रख कर आशीर्वाद दिया.

बुआ- काका, सैम के लिए ब्रेकफास्ट बना दो.
मैं- काका टोस्ट ब्रेड विद बटर, डबल ऑमलेट और एक अच्छी चाय.

निशा- कैसी रही कल रात की पार्टी?
तृषा- मेरा तो पता नहीं, पर सैम ने तो खूब एंजाय किया.

मैं- हम दोनों साथ ही तो थे!
तृषा- हां तू वॉशरूम गया था और एक घंटे बाद आया था. पता नहीं क्या कर रहा था वॉशरूम में?
बुआ- तृषा … बस भी कर!

निशा- आज का क्या प्रोग्राम है मॉम?
बुआ- आज हम सब मेरी फ्रेंड दृष्टि के घर पूजा में जाने वाले हैं.

तृषा- नहीं मॉम … आप जाओ मैं नहीं आ रही हूँ.
निशा- मॉम, आप संडे को इस तरह कैसे खत्म कर सकती हैं. मैं भी आपके साथ नहीं आ रही हूँ.

बुआ- सैम क्या तुम मेरे साथ चलोगे?
निशा- क्यों इस बेचारे का वीकेंड बर्बाद कर रही हो?

मैं- आप लोग डिसाइड कर लो, जब तक मैं ब्रेकफास्ट कर लेता हूँ.
बुआ- अगर तुम दोनों नहीं आना चाहती हो तो कोई बात नहीं. मैं और सैम पूजा में जाएंगे.

मैं डाइनिंग टेबल पर नाश्ता कर रहा था और तीनों की बहस भी सुन रहा था.
कुछ समय बाद मैं अपनी चाय लेकर उनके साथ बैठ गया.

हम सब साथ बैठ कर बातें करने लगे.

बुआ ने उठ कर मुझसे कहा- सैम, चेंज करके रेडी हो जाना. हमें लंच दृष्टि के घर करना है.
मैं- ठीक है बुआजी!

तृषा- बेस्ट ऑफ लक.
निशा- और पंडित जी और बोरिंग दृष्टि आंटी को एंजाय करो.

मैं अपने रूम में गया और जींस शर्ट पहन कर बुआ के रूम में चला गया.
बुआ के रूम में जाने से पहले मैंने नीचे देखा तो दोनों तृषा और निशा हॉल में बैठ कर टीवी पर कोई इंग्लिश रियलिटी शो देख रही थीं.

मैं जब बुआ के रूम में गया तो बुआ ने एक बहुत लो कट ब्लाउज पहन रखा था और वो पीछे से भी काफ़ी खुला हुआ था.

मैंने बुआ को पीछे से हग किया और अपने दोनों हाथ उनके मम्मों पर रख कर दबाने लगा.
बुआ भी सीत्कार करने लगीं.

मैंने बुआ का ब्लाउज खोल दिया और उनके निप्पलों को धीरे धीरे अपनी उंगलियों से मसलने लगा.

बुआ में एकदम से जोश आ गया और उन्होंने अपने एक हाथ को मेरे लंड पर रख दिया.
मेरा लंड एकदम खड़ा था.

बुआ ने झट से मेरी जींस की ज़िप को खोला और लंड को बाहर निकाल कर मसलना चालू कर दिया.

मैंने बुआ को पूरी नंगी कर दिया; बुआ को उनके बेड पर धकेल कर मैं उनकी चूत को चाटने लगा.
बुआ तेज स्वर में सीत्कार करने लगीं- आह चाटो सैम इसे … आज इसका सारा रस पी जाओ. कई वर्षों से किसी ने इसे इस तरह प्यार नहीं किया है. ये हमेशा तुम्हारी आभारी रहेगी … आज मुझे तृप्त कर दे.

मैं भी काफ़ी देर तक बुआ की चूत को मज़े लेकर चाटता रहा और बुआ मेरे मुँह में झड़ गईं.

जब बुआ थोड़ी शांत हुईं, तो मैंने अपने लंड को बुआ की चूत में पेल दिया.
मेरा लंड आसानी से बुआ की चूत में सरकता चला गया.

अब बुआ भी मुझे सहयोग कर रही थीं.
बीस मिनट बाद मेरा लंड एकदम टाइट हो गया और मैं बुआ की चूत में झड़ गया.
हम दोनों एकदम शांत हो गए और कुछ समय बाद बुआ वॉशरूम में चली गईं.

उन्होंने खुद को साफ़ किया और बेड पर आकर मेरे लंड को किस किया.
कुछ देर बाद बुआ तैयार हो गईं और बाहर जाने लगीं.

बुआ- मैं अकेली जा रही हूँ. तुम वहां बोर हो जाओगे. आज तुम इन लड़कियों के साथ एंजाय करो, लेकिन ज़रा संभल कर!
मैं- चिंता मत करो बुआ.

जब मैं और बुआ नीचे हॉल में पहुंचे तो तृषा अपनी फ्रेंड के साथ बाहर गयी थी.
निशा, तान्या (नीतू की कज़िन) और सीमा (नीतू की बड़ी सिस्टर) वहां बैठी बात कर रही थीं.

बुआ- निशा, मैं पूजा में अकेली जा रही हूँ. तृषा कहां है?
निशा- तृषा जस्ट अभी नीतू और दीपा के साथ शॉपिंग के लिए गयी है.
बुआ- ओके, मैं पूजा में जा रही हूँ. तुम सबके लिए लंच ऑर्डर कर लेना और हां काका कल दोपहर में वापस आएंगे.

बुआ के जाने के बाद हम सबने कोई गेम खेलने का सोचा.

सीमा- यार निशा और सैम चल अपन प्लेकार्ड खेलते हैं.
मैं- हां पोकर खेलते हैं.

तान्या- हां, लेकिन हमको कुछ ऐसा खेलना चाहिए जिसमें मजा आ जाए.
निशा- मतलब?

सीमा- हमको स्ट्रिप पोकर खेलना चाहिए.
निशा- वही ना, जिसमें सब कुछ होता है?

सीमा- क्यों तुझे कोई दिक्कत है क्या?
तान्या- मुझे कोई दिक्कत नहीं है. मैं राजी हूँ.

निशा- यदि सब राजी हों तभी मजा आएगा. तब मुझे भी कोई दिक्कत नहीं है.
निशा- चलो खेल शुरू करते हैं.

हम सबने दरवाजा बंद किया और ऊपर बुआ के बेडरूम में आ कर बैठ गए.

हमने चिप्स और बहुत कुछ खाने का सामान पास में रख लिया और बेड पर बैठ कर खेलने लगे.

फर्स्ट राउंड शुरू हुआ.

तान्या ने सबको पत्ते बांटे.
सीमा ने अपने पत्ते देखे और रख दिए.
मैंने तुरंत शो बोला.

निशा गेम का पहला राउंड हार गयी.
मैं- अपना शॉर्ट्स उतार दो.

निशा ने शॉर्ट्स उतार दिया. उसने नीचे पैंटी भी नहीं पहनी थी. वो नीचे से नंगी हो गई.

फिर जब निशा अपने दोनों पैर मोड़ कर बैठी तो सीमा ओर तान्या ने उसकी ओर देख कर आंख मारी.

दूसरा राउंड शुरू हुआ.

कार्ड मैंने बांटे.
तीन बार पत्ते उठाने के बाद तान्या ने कार्ड बंद किए और निशा ने शो करने का बोला.

इस बार सीमा हार गयी.

निशा ने सीमा से ड्रेस उतरने को कहा. सीमा ने एक वन-पीस पहना हुआ था.
ड्रेस उतारने के बाद सीमा सिर्फ़ ब्रा और पैंटी में थी.

तीसरे राउंड में निशा ने कार्ड बांटे और दो राउंड पत्ते उठाने के बाद मैंने अपने कार्ड्स बंद कर दिए.
सीमा ने शो करने का बोला, इस बार फिर निशा से हार गयी.

सीमा ने उससे टॉप उतारने को कहा.
जब निशा ने टॉप निकाला तो मेरा मुँह खुला का खुला रह गया.

निशा एकदम नंगी थी. निशा के 32 साइज़ के बूब्स देख कर मेरा लंड एकदम टाइट हो गया.

अगला राउंड शुरू हुआ.

मैंने कार्ड बांटे. तीन राउंड पत्ते उठाने के बाद निशा ने कार्ड फोल्ड किए और तान्या ने शो का बोला तो मैं हार गया.

सीमा और तान्या ने ज़ोर ज़ोर से सीटी बजाई और मुझसे जींस उतारने को कहा.
मैंने भी गेम के नियम के अनुसार जींस उतार दी.

मेरी अंडरवियर में मेरा खड़ा लंड साफ़ दिखाई दे रहा था.

अगला राउंड हुआ.

तान्या ने कार्ड बांटे किए और उस बार जब निशा ने शो करने का बोला, तो इस बार सीमा गेम में आखिरी बची थी.

सीमा ने सिर्फ़ एक लम्बी सी सफेद टी-शर्ट पहनी हुई थी और उसके नीचे कुछ भी नहीं था.
निशा ने उसे वो निकालने को बोला.

तान्या- यार, मैंने अन्दर कुछ भी नहीं पहना है.
निशा- तो क्या हुआ … मैंने भी पैंटी नहीं पहनी थी.
सीमा- नीतू, तुम ये इधर नहीं उतार सकती हो.

निशा- अगर तुमने नहीं उतारी तो हम सब मिल कर उतार देंगे.
मैं- हां.

सीमा- हां … सैम तो इस काम में वैसे भी बहुत एक्सपर्ट है.
निशा- ओह, मुझे नहीं पता था!

तान्या रूम से भागने लगी तो निशा ने उसकी एक टांग पकड़ ली ओर मुझे आवाज़ लगा कर बोली कि इसकी टी-शर्ट खींच ले.
इसके पहले कि तान्या कुछ कर पाती, मैंने उसकी टी-शर्ट उसके सिर से होकर उतार दी और निशा के पास फैंक दी.

अब तीनों लड़कियां पूरी नंगी थीं और मैं टी-शर्ट व अंडरवियर में था.

अब उन तीनों ने आंखों ही आंखों में कुछ इशारे किए और अगली बार के पत्ते बांटे.

इस राउंड में सीमा ने पत्ते बांटे किए और उसी ने पत्ते फोल्ड किए.
निशा ने शो बोला और मेरे पत्ते सब से ज्यादा खराब थे.

निशा ने मुझे अंडरवियर उतारने को बोला.
मैंने निशा से कहा कि तुम खुद उतार लो.
निशा ने सीमा की ओर देखा.

सीमा ने अपनी पलकें झपका कर हां का संकेत दे दिया.
मैं बेड पर लेट गया और निशा ने जैसे ही मेरी अंडरवियर को नीचे की ओर खींचा, मेरा लंबा मोटा लंड बाहर आ गया.

जब निशा अंडरवियर खींच रही थी तो उसका चेहरे मेरे लंड के बहुत निकट था.
जिस कारण लंड सीधा निशा के होंठों से टकरा गया.

निशा ने भी मस्ती में उसको किस कर दिया.
तान्या ओर सीमा भी ये देख कर ज़ोर से हंस पड़ीं.

अगला राउंड हुआ.

तान्या ने कार्ड बांटे.
फिर जब निशा ने शो बोला तो इस बार भी मेरे पत्ते बहुत खराब थे.

मैं अपनी टी-शर्ट उतारने लगा.
निशा ने मुझे रोक दिया और बोली- नहीं तुमको पांच मिनट तक मेरी चूत चूसना पड़ेगी.
सीमा- यस गेम के रूल तो मानने ही पड़ेंगे.

निशा ने मेरी ओर देखा और अपनी एक उंगली से मुझे अपनी ओर बुलाया.

निशा थोड़ा सा पीछे हटी और उसने अपनी टांगें खोल दीं.
निशा की चूत पर एक भी बाल नहीं था.

मैंने तुरंत अपनी जीभ निशा चूत पर रखी और उसकी चूत को चाटने लगा.

चूत चाटते समय मेरा हाथ निशा के बूब्स पर आ गया और मैं उसके मम्मों को मसलने लगा.

निशा- आह चूस ले मेरी जान आह बेबी … और जोर से चाटो मेरी चूत का चबूतरा बना दो.

वह पूरे जोश में आ गई थी और वो मेरे सिर को अपनी चूत पर दबाने लगी थी.
मैं निशा की चूत को भरपूर मज़े लेकर चाट रहा था.

अचानक तान्या ने मेरा लंड अपने मुँह में ले लिया और उसे ज़ोर ज़ोर से हिला हिला कर चूसने लगी.
सीमा हम तीनों को देख रही थी.

अचानक निशा ने ज़ोर से एक चीख मारी और वो मेरे चेहरे पर झड़ गयी.
निशा का सारा पानी मेरे चेहरे पर और मेरे मुँह में आ गया था.

मैंने अपना मुँह निशा के मुँह से सटा दिया और उससे स्मूच करने लगा.
मेरा लंड एकदम खड़ा था.

मैंने तान्या को बेड पर लिटा दिया और उसकी चूत को चाटने लगा.
सीमा- आह सैम पेल दे … एक झटके में ही लंड पूरा अन्दर जाना चाहिए.
निशा- हां, हम भी तुम्हारी मर्दानगी देखना चाह रही हैं.

तान्या- नहीं नहीं यार … मुझे बहुत दर्द होगा.
मैं- अरे आ जा मेरी जान तान्या … चिंता मत कर. क्या तुम्हारे ब्वॉयफ्रेंड ने तुम्हें आज तक नहीं चोदा है?

तान्या- मेरा ब्रेकअप हुए तीन महीने हो गए हैं.
मैं- चिंता मत करो … अगर दर्द होगा तो मज़ा भी उतना ही ज्यादा आएगा.

बातों बातों में मैंने अपना लंड तान्या की चूत के मुँह पर रख दिया और एक ज़ोरदार झटका दे मारा.
मेरा लंड जड़ तक उसकी चूत में घुस गया.

तान्या चीख पड़ी- हाय मार डाला प्लीज़ बाहर निकालो इसे … आह मैं मर जाऊंगी!

निशा- सैम चोद साली को और जोर से चोद.
सीमा- हां सैम, पेल दे.

निशा- ओह इसका मतलब तुम ऑलरेडी मजा ले चुकी हो इसके?
सीमा- हां … ये साला पूरा सांड है. चुदाई में एकदम मस्त है.

मैंने अपनी चोदने की स्पीड जारी रखी और तान्या की चूत में लंड अन्दर बाहर करता रहा.
तान्या बहुत दिनों से शायद चुदी नहीं थी, इस कारण उसकी चूत काफ़ी टाइट लग रही थी.
वो मेरे लंड पर रगड़ रही थी.

मुझे अपने लंड पर तान्या की चूत की गर्मी का आभास हो रहा था.
उस गर्मी के कारण मैंने अपनी चोदने की स्पीड और तेज कर दी.

तान्या पहले तो बहुत शोर मचा रही थी, फिर कुछ मिनट बाद उसकी तान बदल गई.

तान्या- अह चोद दे साले … और अन्दर तक पेल अपना पूरा लौड़ा … आह मेरी चूत में ठांस दे.
मैं अपनी चोदने की स्पीड को लगातार बढ़ाता जा रहा था.

अचानक निशा भी ये सब देख कर गर्म हो गई और उसने अपना एक बूब्स मेरे हाथ में दे दिया.

मैं भी काफ़ी समय से उसके बूब्स की ओर देख रहा था.
मैंने निशा के बूब्स को कुछ देर मसला, उसके पश्चात निशा की चूत को चाटने लगा.

एक तरफ मैं तान्या को अपने लंड से चोद रहा था और दूसरी ओर मैं अपने मुँह से निशा को चोद रहा था.

दस मिनट तक लगातार तान्या और निशा को चोदने के बाद मेरा लंड एकदम टाइट हो गया और मैं उसकी चूत में ही झड़ गया.

जिस समय मैं झड़ रहा था, उसी समय निशा भी मेरे चेहरे पर झड़ गयी.

कुछ समय बाद हम सब बुआ के बेड पर लेटे हुए थे.

तान्या- यार आज ज़िंदगी में पहली बार किसी ने तृप्त होने तक चोदा है. सैम लव यू यार.
सीमा- यार जब इसका लंड टाइट हो जाता है, तो ये एकदम जानवर बन जाता है. इसकी स्पीड एकदम घोड़े की स्पीड जैसी हो जाती है.

मैं- सीमा कल रात तुम भी तो फुल एंजाय कर रही थी.
तान्या- एक बात बताओ हम तीनों में तुम्हें किस का फिगर सब से ज़्यादा अच्छा लगा और क्यों?

मैं- तुम तीनों का फिगर बहुत अच्छा है लेकिन मुझे किसी भी लड़की के बूब्स सबसे ज़्यादा आकर्षित करते हैं. तुम तीनों में निशा के बूब्स बहुत खूबसूरत हैं इसलिए मुझे सबसे ज़्यादा निशा के बूब्स पसंद आए हैं.

तान्या- तुमने निशा को चोदा है या नहीं?
मैं- नहीं.

सीमा- तुम्हारी जानकारी के लिए निशा को लंड चूसना बहुत पसंद है.
मैं- सच में?

तान्या ने मेरे लंड को अपने हाथ में पकड़ा और निशा को आमंत्रित किया.
निशा ने भी अपने मुँह में लेकर लंड चूसना शुरू कर दिया.

मैंने भी निशा की चूत को चाटना शुरू कर दिया.
तान्या और सीमा दोनों बुआ के बेड पर बैठ कर अपनी चूत में उंगलियां कर रही थीं.

चार से पांच मिनट बाद मेरा लंड खड़ा हो गया.
निशा बड़े प्यार से मेरा लंड चूस रही थी.

कुछ समय बाद मैंने अपना लंड निशा के मुँह से निकाला और निशा को बेड के कोने तक खींच लिया.

अब मैंने निशा की टांगों को अपने कंधे पर रखा और अपने लंड का सुपारा निशा की चूत के मुँह पर रख दिया.
निशा की चूत को चाट चाट कर मैंने एकदम गीली कर दिया था.

निशा चुदने के लिए एकदम तैयार थी- प्लीज़ डालो ना अन्दर … क्यों तडपा रहे हो. मेरी चूत में चाट चाट कर आग लगा दी है तुमने … और अब क्यों तड़पा रहे हो? प्लीज़ अपना लंड मेरी चूत में डाल कर मेरी इस आग को शांत करो.

मैं- थोड़ा धीरज रखो मेरी रानी, तुम्हारी चूत में लगी और तुम्हारे बदन में लगी आग को पूरी तरह शांत कर दूँगा.

तान्या- अभी नहीं सैम, थोड़ा ओर तड़पने दो इसे.
सीमा- सैम चोदो इसे. पूरा लंड अन्दर डाल दो.
मैं- अभी लो मेरी जान.

फिर एक ही झटके में मैंने लंड निशा की चूत में पेल दिया.
निशा अपने दोनों हाथों से सिर के नीचे रखे पिलो को पकड़ कर ज़ोर से चीख पड़ी- आह फाड़ दिया मेरी चूत को … ये तो बहुत बड़ा लंड है … प्लीज़ बाहर निकालो इसे!
मैं- अभी आग भड़का रहा हूँ, शांत करने में थोड़ा समय तो लगेगा!

कुछ समय तक निशा को शांत करने के बाद मैंने अपना लंड अन्दर बाहर करना शुरू किया.
निशा अभी कुछ समय बाद अपनी गांड उठा उठा कर मेरा साथ दे रही थी.

हमारी चुदाई चरमसीमा पर पहुंची थी तो मैंने निशा से पूछा- पानी अन्दर निकालूं या बाहर?
निशा- अन्दर, ज़रा ये आग भी तो शांत हो जाए!

निशा का उत्तर सुनने के बाद मैंने अपनी घोड़े की स्पीड बढ़ा दी और दो से तीन मिनट में झड़ गया.
हम दोनों एक साथ झड़ कर एक दूसरे को हग करके लेट गए.

कुछ समय बाद हम दोनों अलग हुए और निशा सीधा बाथरूम चली गयी.

सेक्सी न्यूड गर्ल्स की चुदाई के बाद हम सबने कपड़े पहने और फिर से हॉल में बैठ कर मूवी देखने लगे.

कुछ समय पश्चात सीमा और तान्या अपने अपने घर चले गए और मैं और निशा सोफा पर बैठे मूवी देख रहे थे.

अचानक से मूवी में एक बहुत हॉट सीन आ गया जिसके कारण मैंने अपना एक हाथ निशा की जांघों पर रखा और सहलाने लगा.

निशा भी धीरे धीरे गर्म होने लगी.
हम दोनों एक दूसरे के करीब आ गए और हम एक दूसरे के होंठों को चूमने लगे.

मेरे दोनों हाथ निशा के बदन पर घूम रहे थे.

मैंने एक हाथ निशा की टी-शर्ट में डाल दिया और उसके एक निप्पल को अपनी उंगलियों से मसलने लगा.

निशा बहुत गर्म हो गई और उसने अपनी टी-शर्ट को निकाल दिया.
उसने ब्रा नहीं पहनी थी.

मैं निशा के मम्मों को देख कर एकदम से उन पर टूट पड़ा और उन्हें बारी बारी से चूसने लगा.
निशा ने मेरी टी-शर्ट को भी निकाल दिया और हम दोनों एक दूसरे के होंठों को चूसने लगे.

हमारे शरीर में कामवासना के शोले एकदम से भड़कने लगे और मैंने निशा को अपनी बांहों में उठा कर सीधा अपने रूम में पहुंच गया.
मैंने निशा के सारे और निशा ने मेरे सारे कपड़े उतार दिए.
हम एक दूसरे के गुप्त अंगों को चाट रहे थे.

कुछ समय तक 69 की पोजीशन में एक दूसरे के गुप्त अंगों का रसपान करने के बाद मैंने अपना लंड निशा की चूत में डाल दिया और उसे फुल मस्ती में चोदने लगा.
निशा भी उस समय मेरा पूरा साथ दे रही थी.

कुछ समय बाद मेरा लंड एकदम टाइट हो गया और मैं उसकी चूत में ही झड़ गया.

तब मैंने देखा तो रात के साढ़े आठ बज चुके थे, तृषा और बुआ किसी भी समय घर आ सकती थीं.

दोस्तो, इस सेक्सी न्यूड गर्ल्स की चुदाई कहानी ने आपको मजा दिया होगा.
आप मेल करते रहें अपनी राय मुझे देने के लिए!

[email protected]

सेक्सी न्यूड गर्ल्स की चुदाई से आगे की कहानी:

About Abhilasha Bakshi

Check Also

मेरा गुप्त जीवन- 189 (Mera Gupt Jeewan- part 189 Filmi Kaliyon Ke Jalwe)

This story is part of a series: keyboard_arrow_left मेरा गुप्त जीवन- 188 keyboard_arrow_right मेरा गुप्त …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *