दो सहेलियों ने पति की अदला बदली की- 1 (Husband Wife Married Sex Life )

हस्बैंड वाइफ मैरिड सेक्स लाइफ एक समय के बाद बोरिंग लगाने लगती है. दो सहेलियों ने अपने यौन जीवन में नया रंग भरने के लिए क्या किया?

प्रिय पाठको,
मेरी पिछली कहानी
अपनी अपनी जरूरत
आपने पढ़ी और पसंद की, धन्यवाद.

यह सच्ची कहानी मेरी एक पाठिका ने मुझे बताई, उसकी अनुमति से ही मैं यह कहानी लिख रहा हूँ परन्तु मैंने नाम बदल दिये हैं.

रचना और कल्पना दोनों सहेलियां हैं. दोनों एक ही स्कूल, कॉलेज साथ पढ़ी।

कल्पना दक्षिण भारत से है, छरहरा बदन, थोड़ी सांवली कांतिमय त्वचा, 32बी के स्तन, 5’6″ लम्बी, उसकी आंखें बहुत सुन्दर हैं।
रचना उत्तर भारत से है, गोरी, भरा बदन, 36सी के स्तन, 36″ कूल्हे, 5′ 3″ लम्बी।

दोनों की सुंदरता अलग तरह की है.

21 वर्ष की उम्र में कल्पना की शादी एक दक्षिण भारत के लड़के कल्याण से हो गयी.
उसका रिशता उसके घर वालों ने तय किया था।
कल्पना का पति कल्याण, 5’8″ लम्बा, छरहरा बदन, सांवला था, अच्छी नौकरी करता था।

शादी के बाद कल्पना पति के साथ दूसरे शहर चली गयी।
कल्पना एक महीने बाद पति के साथ मायके आयी।
वह अपने पति के साथ रचना के घर उससे मिलने गयी।

रचना के घर वाले कल्पना को बोलने लगे- रचना के लिए भी अपने शहर में लड़का देखो!
अपने शहर वापिस आकर कल्याण ने अपने जिगरी दोस्त रंजन को खाने पर घर बुलाया।

रंजन रचना की जात का था, गोरा, गोलू मोलू शरीर, 5′ 5″ लम्बा।

कल्याण ने रंजन को रचना की तस्वीर दिखाई और शादी की बात की।
रंजन को तस्वीर पसन्द आयी।
तब रंजन अपने घर वालों, कल्पना और कल्याण लेकर रचना के घर गया।

रिश्ता तय हुआ और एक महीने बाद शादी हो गयी.

कल्पना रचना का किराये का फ्लैट पास पास था, दोनों अक्सर मिला करती।

एक दिन पतियों के काम पर जाने के बाद दोनों सहेलियों ने अपनी अपनी सुहागरात की कहानी एक दूसरी को सुनाई।
दोनों ने अपने अपने पति का लंड कितना मोटा है, यह उंगलियों को जोड़कर गोल बनाकर बताया, लम्बाई मुट्ठी में लंड पकड़ने के बाद कितना बाहर रहता है, स्केल से नापा।

कल्याण का लंड 6 इंच लम्बा पर ज्यादा मोटा नहीं है.
रंजन का लंड 4 इंच लम्बा है पर कल्याण के लंड से लगभग दोगुना मोटा!

एक साल में दोनों सहलियों के बच्चे हो गए, वे लोग बच्चों की देखभाल में व्यस्त हो गए।

कुछ समय बाद दोनों दोस्तों ने दो बेड रूम का फ्लैट पास पास ख़रीदा।

इससे चारों में गहरी दोस्ती हो गयी।
कल्याण रचना को साली आधी घरवाली कहता, रंजन कल्पना को साली आधी घर वाली।
बच्चों की भी अच्छी दोस्ती हो गयी।

जब एक सहेली मायके जाती, उसका पति दूसरी सहेली के घर खाना खाता।

बच्चे जब दो साल के हुए तो दोनों सहेलियों ने परिवार नियोजन का ऑपरेशन करा लिया।
कारण- कंडोम से सम्भोग में उतना आनंद नहीं आता और वह 100 % कारगर नहीं होता।

कहावत है कि जब किस्मत ख़राब हो तो गांड मारने से भी गर्भ ठहर जाता है

कल्पना और कल्याण दोनों को कसरत करते हैं, उनका बदन छरहरा है।
पर रचना, रंजन को कसरत करना अच्छा नहीं लगता, शादी के बाद दोनों थोड़े और मोटे हो गए।

रचना सिर्फ केगल कसरत करती है, जो उसे कल्पना ने सिखाई, जिससे दोनों सहेलियों की चूत बच्चा होने के बाद भी कसी है.

कल्याण, रंजन सॉफ्टवेयर इंजीनियर हैं, उनकी शनिवार और इतवार को छुट्टी होती है।
शनिवार की रात दोनों दोस्त और उनकी पत्नियां पार्टी करते, चारों साथ शराब पीते, खाना खाते।
उस समय अश्लील चुटकुले भी सुनाये जाते।
फिर दोनों जोड़े अपने फ्लैट में जाकर घमासान सम्भोग करते!

बच्चे स्कूल जाने लगे।
दोनों सहेलियां बच्चों के स्कूल जाने के बाद साथ बैठकर, अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज, फ्री हिंदी सैक्स स्टोरीज की कहानियां पढ़ती।
कंप्यूटर पर सम्भोग के वीडियो देखते समय जब ज्यादा जोश आ जाता तो एक दूसरी के चूचे दबाने लगती, आपस में चूमाचाटी करती।

दोनों ने लेस्बियन सेक्स भी करके देखा, पर मजा नहीं आया।

कभी कभी दोनों अपने पतियों के साथ बैठकर सम्भोग वीडियो देखती, फिर पति पत्नी जोश में सम्भोग करते!

उनकी शादी को 6 साल हो गए, हस्बैंड वाइफ मैरिड सेक्स लाइफ में नवीनता नहीं रही।

एक दिन कल्पना ने रचना को कहा- कल्याण कुछ नया करने के लिए मेरी गांड मारना चाहते हैं. हमने कोशिश की पर दर्द हुआ, कर नहीं सके।
रचना बोली- हमने भी कोशिश की थी।

दोनों गांड मरवाने के बारे में नेट पर पढ़ने लगी.

नेट की सलाह अनुसार पिचकारी में पानी लेकर सहेलियों ने एक दूसरे की गांड में डाला और पानी निकाल दिया।
फिर उंगली में तेल लगाकर गांड ढीली करके एक दूसरे की गांड में उंगली डाली।

ओनलाइन आस प्लग ख़रीदा, उसको गांड में डालकर काफी देर रखा, आस प्लग लगाकर चलने में मजा आया।

एक हफ्ते की तैयारी के बाद दोनों ने अपने पतियों को अपनी गांड अर्पण की.
इस सम्भोग में पति पत्नी को एक नया मजा आया।

दोनों ने पतियों को कहा कि सम्भोग के बाद लंड धो लें, गांड में कीटाणु हो सकते हैं.

कल्पना, रचना की शादी हुए 10 साल हो गये।
चारों मिलकर पार्टी करते, शराब भी पीते, पर बच्चे बड़े हो गए थे, भाषा का संयम रखना पड़ता।

शादी के बाद से ही हर शनिवार की सुबह कल्पना और उसका पति कल्याण एक दूसरे की मालिश करते और साथ नहाते।
उस समय रचना और रंजन दोनों बच्चों को पार्क ले जाते।

रविवार को रचना और रंजन एक दूसरे की मालिश करते, साथ नहाते, उस समय कल्पना, कल्याण दोनों बच्चों को पार्क ले जाते।

समय बिताने के लिए कल्पना, रचना ने स्कूल में नौकरी के लिए कोशिश की तो दोनों को नौकरी मिल गयी।

एक दिन कल्पना ने रचना को कहा- मेरा और कल्याण का यौन जीवन नीरस हो गया है. अब सम्भोग कमर हिलाना लगता है।
रचना बोली- मेरा और रंजन का भी यही हाल है।

कल्पना ने नया वीडियो लगाया, वीडियो वाइफ स्वैपिंग (बीवी की अदला बदली) का था.

तब कल्पना बोली- रचना, क्या हम भी ऐसा करके देखें?
रचना ने सहमति जताई.

कल्पना- रचना, मैंने देखा है कि जब तू साड़ी ब्लाउज पहनती है, कल्याण तेरे बड़े चूचे, जब तू चलती है, तेरी मटकते कूल्हे, और गोरी छोटी सी तोंद को हसरत से देखता है।
रचना- हाँ, मैंने भी ख्याल किया है.

रचना- कल्पना, जब तू साड़ी ब्लाउज में होती है, रंजन तेरे 32बी के चूचे, सपाट सांवला कांतिमय पेट, और सुंदर आँखों में खो जाता है।
कल्पना- हाँ, मुझे मालूम है!

रचना और कल्पना ने चर्चा की कि उनके पतियों को बीवी बदलने के लिए उकसाया कैसे जाये?
सीधे तो बीवी बदलने को नहीं कह सकती।
उन्होंने योजना बनायी.

शनिवार को कल्याण जब कल्पना के चूचों की मालिश कर रहा था तो कल्पना बोली- यदि मेरे चूचे रचना की तरह 36 सी होते तो आपको ज्यादा मजा आता?
यह सुनकर कल्याण का लंड खड़ा हो गया।

कल्पना के कूल्हों की मालिश के समय कल्पना बोली- मेरे कूल्हे रचना को तरह बड़े होते तो कल्याण तुमको मालिश में और मजा आता।

रंजन और रचना दोनों के पेट बड़े है, जब वे लोग सम्भोग करते हैं तब रंजन का लंड थोड़ा सा ही अंदर जाता होगा.
रचना ने बताया- रंजन का लंड तुम्हारे लंड की तरह लम्बा नहीं है.

कल्याण ने कल्पना को पीठ के बल लिटाया और जोश में उसे चोदने लगा, चोदते समय कल्याण ने अपनी आंखें बंद कर रखी थी।
कल्पना समझ गयी कि कल्याण कल्पना को रचना समझ कर चोद रहा है.

रविवार को रंजन रचाना के चूचों की मालिश कर रहा था।
चूचे बड़े होने के कारण रंजन को एक एक चूचे को दोनों हथेलियों से मालिश करना पड़ रहा था।

रचना बोली- काश मेरे चूचे कल्पना की तरह 32 बी के होते तो रंजन तुम्हारे दोनों हाथों में दो चूचे होते। मेरा पेट कल्पना की तरह सपाट होता तो तुम अपना मोटा लंड और अंदर डाल सकते था और कल्पना की आँखों का कहना ही क्या, कितनी सुन्दर हैं.

रंजन का लंड यह सुनकर खड़ा हो गया, रंजन आंख बंद करके रचना की चुदाई करने लगा।
रचना समझ गयी कि रंजन रचना को कल्पना समझ कर चोद रहा है.

योजना के अनुसार कल्पना, रचना ने नेट से वाइफ स्वैपिंग के अनेक वीडियो देखे, उनमें से ऐसा वीडियो पेन ड्राइव में सेव किया जिसमें एक स्त्री का बदन और रंगत कल्पना जैसा था, दूसरी स्त्री का रचना जैसा।
पुरुषों में एक का लंड लम्बा था, दूसरे का मोटा पर कम लम्बा।

दोनों ने अपने अपने पतियों से कहा- हम दोनों सहेलियों ने एक नया तरह का सम्भोग वीडियो देखा है, आपको देखना है?

कल्पना, कल्याण और रंजन, रचना अपने अपने बैडरूम में वीडियो देखने लगे।

तब कल्पना ने कल्याण को और रचना ने रंजन को भोलेपन से पूछा- क्या सच में ऐसा होता है?
दोनों के पतियों का जवाब था- यदि सभी राजी हो तो होता है.

कल्पना- कल्याण, मैंने देखा है, तुम रचना को हसरत भरी निगाह से देखते हो. तुम कहो तो मैं रचना से बात करूं? मुझे कोई आपत्ति नहीं है यदि रचना तुम्हारे साथ कभी कभी यौन आनंद ले ले! उसका ऑपरेशन हो चुका है, बच्चा होने का डर नहीं है.

कल्याण- कल्पना, तुम सोच कर कह रही हो?
कल्पना- हाँ, दिल से कह रही हूँ. इससे मेरा तुम्हारा प्यार बढ़ेगा, यौन की नीरसता चली जाएगी। आपकी खुशी में मेरी खुशी है.
कल्याण- तो तुम रचना से बात करो!

ऐसी ही बात रचना रंजन के बीच हुई.

दूसरे दिन रात को कल्पना ने कल्याण को बताया, रचना राजी है।
रचना ने रंजन को कहा- कल्पना राजी है।

तय हुआ कि अगले शनिवार की रात पार्टी में, जब बच्चे सो जायें तब चारों बैठकर यह वीडियो देखेंगे.

शनिवार को पार्टी देर रात तक चली.
बच्चे सोने के बाद वाइफ स्वैपिंग का वीडियो लगा दिया.

दोनों दोस्त कुछ ज्यादा ही शराब पी रहे थे।

वीडियो देखते समय कल्याण और रंजन एक सोफे पर बैठे थे, दोनों आपस में कुछ बात कर रहे थे.
फिर दोनों सिगरेट पीने बालकनी में गए.

रंजन- कल्याण, अपना यौन जीवन नीरस हो गया है, क्या हम यह करके देखें?
कल्याण- कर सकते हैं … पर अपनी पत्नियां राजी होंगी?
रंजन- हम बीवियों को कहेंगे आपस में बात करने को!
दोनों ने एक दूसरे को नहीं बताया कि दोनों की बीवियां राजी हैं.

दूसरे दिन दोनों दोस्तों ने एक दूसरे को बताया कि उनकी बीवियां राजी हैं। अगले हफ्ते से गर्मी की छुट्टी होने वाली हैं, दोनों के बच्चे एक महीने के लिए हर साल की तरह नाना/ मामा के घर जाकर रहेंगे। तब अपना कार्यक्रम होगा.

बच्चे चले गए, शनिवार शाम को कल्पना ने रंजन और कल्याण को कहा- आप दोनों मेरे फ्लैट में रुकना, हम दोनों सहेलियां रचना के फ्लैट में तैयार होकर आप लोगों को बुलाएंगी.

रचना, कल्पना ने एक दिन पहले ब्यूटी पार्लर में जाकर वैक्सिंग, फेशीयल कराया था।
शनिवार को दोनों ने सुन्दर साड़ी, बैकलेस ब्लाउज पहना, मेकअप किया।

फ्लैट दो बेडरूम का था, दोनों दो बेडरूम में अपनी अपनी दूसरी सुहागरात मनाने के लिए पलंग पर घूँघट लगा कर बैठी.
फ़ोन पे कल्याण और रंजन को बताया गया कि किसको किस बेडरूम में जाना है.

कल्याण और रंजन बताये बेडरूम में आये और दरवाज़ा बंद कर दिया।

थोड़ी देर बाद दोनों बेडरूम से सिसकारी, एक दो बार चीखने और थप थप की आवाज़ आने लगी, जो देर रात तक चली।
सुबह को सभी काफी देर से उठे.

जब चारों मिले तो सभी खुश थे.

चाय नाश्ते के बाद कल्याण, रंजन बालकनी में जाकर बात करने लगे.
वापस आकर वे बोले- तुम दोनों सहेलियां खाना बनाओ, हम दोनों बाजार से होकर आते हैं.

उनके जाते ही दोनों सहेलियां एक दूसरे का कल रात का अनुभव पूछने लगी.

रचना- पहले मैं बताती हूँ अपनी दूसरी सुहागरात के बारे में!

मैं दुल्हन बन कर पलंग पर बैठी थी, कल्याण मेरे पास आया, मेरा घूँघट उठा कर मुझे निहारकर बोला- जब से तुम्हें देखा हैं, तब से मैं तुम्हारे साथ के सपने देख रहा था। आज मेरा सपना पूरा हुआ.

कल्याण ने मेरे माथे, आँखों का चुम्बन लिया। फिर मुझे लिटाकर आलिंगन में लेकर मेरे लब चूमने, चूसने लगा.
मैं भी उसके होंठ चूमने, चूसने लगी.
कल्याण मेरे चूचे दबाने लगा।
मैं उत्तेजना में सिसकारी लेने लगी.

पता ही नहीं चला कि कब हमने एक दूसरे के कपड़े उतार दिए।
कल्याण मेरे नंगे चूचे देखकर बोला- तुम्हारे कबूतर ब्लाउज से आजाद होकर और सुन्दर लग रहे हैं।

वह एक एक चूची अपनी दोनों हथेलियों में पकड़कर दबाता और निप्पल चूसता, फिर दूसरे चूचे की बारी आती।
कल्याण मेरे थोड़े मोटे पेट को देखकर बोला- क्या सेक्सी पेट है!
वह पेट को चूमते हुए नीचे जाकर मेरी मोटी जांघों और चूत को चूमने लगा।

मैं कल्याण का लम्बा लंड देखने को बेकरार थी।

कल्याण बोला- 69 पोजीशन में मजा ले?
मैंने हाँ में सर हिलाया।

69 पोजीशन में कल्याण का लंड मेरे गले तक जा रहा था, कल्याण मेरी चूत चूस रहा था, मैं उसका लंड!

थोड़ी चुसाई के बाद मैंने पीठ के बल लेटकर, अपने पांव फैला दिए.
कल्याण ने अपना लंड झटके से मेरी चूत में डाल दिया।

मेरी चूत में इतनी गहराई तक लंड जाने का मुझे नया और सुखद अनुभव हुआ।
कल्याण मेरी चुदाई करने लगा, उसके कसरती बदन के झटके जोरदार थे, बहुत मजा आ रहा था.

उसके बाद कल्याण पीठ के बल लेट गया, मैं उसका लंड चूत में लेकर उछलने लगी।
मेरे पैंडुलम की तरह लटकते हिलते चूचे कल्याण की छाती के पास डोल रहे थे.

कल्याण मेरे चूचे दबा रहा था, निप्पल मरोड़ रहा था, कभी सर उठाकर निप्पल चूस रहा था।

मैंने जब भी रंजन के लंड की सवारी करने की कोशिश की, हम सफल नहीं हुए क्योंकि रंजन की ऊंचाई मेरे बराबर है, मेरे डोलते चूचे उसके मुँह को ढक लेते हैं।
कल्याण की ऊंचाई मुझसे 5 इंच ज्यादा है और मेरे चूचे कल्याण की छाती के पास डोल रहे थे.

मैं थककर नीचे उतरकर पीठ के बल लेट गयी, कल्याण मेरे ऊपर आया और घमासान चुदाई करने लगा.
वह रूककर मेरे निप्पल चूस देता।

काफी देर बाद हम दोनों एक साथ झड़ गए।
हमने अपने लंड, चूत को तौलिये से पौंछा और पास पास नंगे ही लेट गए.

थोड़ी देर बाद कल्याण ने मुझे पूछा- कैसा लगा?
मैं बोली- एक नया मजा आया. कल्याण तुम्हारा (लंड) इतनी गहराई तक गया, जो मेरे साथ पहली बार हुआ। तुम में गजब की स्टैमिना और ताकत है, बहुत देर तक बिना थके चुदाई करते हो!

तब मैंने पूछा- कल्याण, तुमको कैसा लगा?
कल्याण- मजा आ गया, तुम्हारा गद्देदार बदन, बड़े चूचे कमाल के है। एक बार फिर हो जाये?
मैंने जोश में कहा- हो जाये!

हम फोरप्ले करने लगे, कल्याण का लंड खड़ा हो गया।
मैं समझ गयी कि अब मेरी गांड की बारी है।
मैंने पहले से ही गांड के छेद की सफाई कर रखी थी, अंदर तक वैसलिन लगा लिया था.

कल्याण ने मुझे घोड़ी की तरह पलंग के किनारे खड़ा किया, वह जमीन पर खड़ा होकर मेरी चूत चोदने लगा, मेरे लटकते चूचे, निप्पल दबाने लगा।

फिर उसने अपना लंड बाहर निकाला, लंड पर तेल लगाया, मेरी गांड के प्यार के छेद में फेरने लगा।
धीरे धीरे वह अपना लंड मेरी गांड में डालने लगा, लंड नयी गहराई तक गया.

मैंने पूछा- पूरा गया क्या?
कल्याण बोला- डार्लिंग, अभी तो आधा ही गया है.
मैं सोच रही थी कि उसका लंड पेट तक जायेगा.

कल्याण ने एक झटका मारा, पूरा लंड मेरी गांड में घुस गया, मेरी चीख निकल गयी।
कल्याण ने धीरे धीरे गांड मारना शुरू किया, उसकी गति बढ़ने लगी.

हर झटके के साथ मेरा बदन हिल रहा था, कल्याण मेरे कूल्हों पर चांटे मार रहा था, मैं आनंद में सिसकारी ले रही थी.

करीब आधे घंटे बाद हमारी चुदाई ख़त्म हुई, मेरी गांड वीर्य से भर गयी।
मैं थककर लेट गयी, हम दोनों नंगे सो गए.

सुबह मैंने चाय बनायी.

हम दोनों के फ्रेश होने के बाद कल्याण बोला- रचना, मैं तुम्हारी मालिश कर देता हूँ!
मैंने कहा- हाँ, तुम्हारी घमासान चुदाई से मेरा बदन दुःख रहा है।

मालिश करते समय, हम दोनों उत्तेजित हो गए, जोरदार चुदाई के बाद हमने साथ में स्नान किया।
कल्पना अब तुम बताओ तुम्हारा अनुभव?

आपको यह हस्बैंड वाइफ मैरिड सेक्स लाइफ कहानी कैसी लग रही है?
बतायें मुझे!
अपने विचार बताते समय कहानी का नाम भी लिखें.
[email protected]

कल्पना की चुदाई की कहानी अगले भाग में!

हस्बैंड वाइफ मैरिड सेक्स लाइफ कहानी का अगला भाग: दो सहेलियों ने पति की अदला बदली की- 2

About Abhilasha Bakshi

Check Also

गैर मर्दों से चूत चुदाई और गैंग-बैंग की इच्छा-1 (Gair Mardon Se Chut Chudai Aur Gang Bang Ki Ichcha- Part 1)

This story is part of a series: keyboard_arrow_right गैर मर्दों से चूत चुदाई और गैंग-बैंग …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *