दो सहेलियों ने पति की अदला बदली की- 2 (Partner Swap Sex Story)

पार्टनर स्वैप सेक्स स्टोरी दो कपल की है. दोनों पुराने दोस्त थे, पास पास रहते थे. चारों ने अपनी सेक्स लाइफ रंगीन करने के लिए मिल कर अदल बदल के चुदाई की.

कहानी के पहले भाग
सहेलियों ने बनाया अदला बदली का प्रोग्राम
में आपने पढ़ा कि कल्पना और रचना पुरानी सहेलियां है।
कल्पना की शादी कल्याण से हुई, रचना की रंजन से!
उनकी शादी को दस साल हो गए थे।
दोनों जोड़ों का यौन जीवन नीरस हो गया था।
कल्पना, रचना ने वाइफ स्वैपिंग ( बीवी की अदला बदली ) का वीडियो देखने के बाद पति की अदला बदली के लिए अपने पतियों को उकसाया। कल्पना ने रंजन के साथ और रचना ने कल्याण के साथ अपनी दूसरी सुहागरात मनाई।

उस रात क्या हुआ रचना ने कल्पना ने रचना को बताया।

आगे पार्टनर स्वैप सेक्स स्टोरी:

अब कल्पना ने बताना शुरू किया अपनी दूसरी सुहागरात के बारे में!

मैं नयी दुल्हन के समान पलंग पर बैठी थी, रंजन ने कमरे में आकर दरवाज़ा बंद किया।
उसने मेरा घूँघट उठाया, मैंने शर्म से सर झुकाकर आंखें बंद कर ली।

रंजन ने मेरी बंद आँखों को चूमकर कहा- कल्पना शर्माओ मत, अपनी आंखें खोलो, मैं तुम्हारी सुन्दर आँखों में डूब जाना चाहता हूँ।

मेरे आंख खोलने के बाद रंजन प्यार से मुझे देखने लगा, मेरे गाल चूमकर बोला- तुम्हारे इतने पास आने का मेरा सपना आज पूरा हुआ!

रंजन ने मुझे हाथ पकड़कर पलंग से उतारकर खड़ा किया और मुझे आलिंगनबद्ध कर लिया.
वह मेरे गाल, गर्दन चूमने लगा.
मेरी चूची उसकी छाती पर दबी थी।

थोड़ी देर बाद रंजन ने मुझे छोड़ा और मेरे होंठ चूमने चूसने लगा.
मैं भी उसका साथ दे रही थी.

रंजन मेरे पीछे आकर मेरे दोनों चूचे दबाने लगा, उसका खड़ा लंड मैं अपने कूल्हों पर महसूस कर रही थी।

हम दोनों गर्म हो गए। हम पलंग पर पास पास लेट गए.

रंजन ने मेरी साड़ी, ब्लाउज ब्रा, साया उतार दिया, मैंने रंजन का कुरता बनियान।

तब रंजन मेरे स्तनों को निहारकर बोला- क्या सुन्दर सुडौल वक्ष है।
रंजन अपने दाहिने हाथ से मेरा बायाँ चूचा दबा रहा था और बायें हाथ से मेरा दाहिना चूचा!
वह मेरे निप्पल भी चूस रहा था।

तब रंजन बोला- क्या परफेक्ट साइज है … एक हथेली में आ जाता है. इसको कहते हैं दोनों हाथ में लड्डू।

मेरी चूत गीली हो गयी.

मैं पैर फैलाकर लेटी थी, रंजन मेरे पेट को चूमते हुए बोला- क्या सपाट सेक्सी सेक्सी पेट है।

उसके बाद वह मेरी जांघों पर हाथ फेरकर बोला- तुम्हारी जांघें केले के पेड़ जैसी चिकनी और कसी है।

रंजन ने मेरी पैंटी उतार दी और अपना पायजामा!
वह अपना लंड मेरी चूत पर रगड़ रहा था।
रंजन के बड़े पेट के कारण मैं उसका लंड नहीं देख सकी.

अचानक रंजन ने अपनी कमर को हल्का झटका दिया, उसका पेट मेरी पेट से टकराया और लंड पूरा घुस गया।

मैं दर्द से चीख उठी.
मेरी चूत चुदाई के समय इतनी कभी नहीं फैली थी।
मुझे लगा जैसे घन से कीला ठोक दिया मेरी चूत में!

कम वजन की हथोड़ी से कीला ठोकने में ताकत लगती है, पर राजन का भारी वजन घन का काम कर रहा था।
रंजन मेरे ऊपर लेट गया.

थोड़ी देर बाद मेरा दर्द कम हुआ, मैंने कमर हिलाकर संकेत दिया।
रंजन मुझे घमासान चोदने लगा, मुझे मजा आ रहा था।

थोड़ी देर में रंजन थककर हाम्फने लगा।

रंजन ने पीठ के बल लेटकर मुझे उसके ऊपर आने को कहा।
मैंने उसका लंड देखा, बहुत मोटा था।

मैं रंजन के लंड की सवारी करने लगी।
रंजन अपने दोनों हाथों में एक एक चूचे पकड़कर दबा रहा था।

काफी देर लंड पर उछलने के बाद मैं झड़ने लगी, रंजन भी मेरे साथ झड़ गया.
हम पास पास लेट गए।

रंजन ने पूछा- कल्पना कैसा लगा? और तुम थकी नहीं?
मैंने कहा- कसरत करती हूँ, जल्दी थकती नहीं। बहुत मजा आया मोटे लंड की सवारी में।

तब मैंने पूछा- रंजन, तुम्हें कैसा लगा?
रंजन- मजा आ गया. कल्पना तुम्हारा कसरती बदन, सपाट पेट के कारण मैं इतने अंदर तक लंड डाल सका। सुडौल परफेक्ट साइज के चूचों से खेलने में मजा आ गया। तुम क्या शानदार लंड की सवारी करती हो बिना थके!

फिर वह मेरे कूल्हों पर हाथ फेरकर बोला- एक बार इसका भी आनंद दो घोड़ी बनकर!
मैं बोली- रंजन, तुम्हारा लंड बहुत मोटा है, जरा धीरे करना!

मैं घोड़ी बनकर पलग के किनारे खड़ी थी, रंजन फर्श पर खड़ा, लंड पर तेल लगाकर मेरी गांड में डालने की कोशिश कर रहा था।

मेरी लम्बी टांगों और रंजन की कम हाइट के कारण उसका लंड मेरी गांड तक नहीं पंहुच रहा था.

मैं पलंग से उतरकर फर्श पर खड़े होकर सामने की तरफ झुक गयी.
मैंने अपना सर और हाथ पलंग पर रखा और पैर फैला दिए।

रंजन मेरे पीछे आया.
मैंने अपनी गांड ढीली छोड़ दी मोटा लंड गांड में लेना एक चुनौती समझकर!

रंजन ने लंड मेरी गांड में पेल दिया, मेरी कमर कसकर पकड़ ली।
मैं ‘आ आ … मर गयी!’ कहकर हाथ पटक रही थी।

रंजन मेरा दर्द कम होने का इन्तजार करने लगा।
वह मेरे चूचों को सहला रहा था।

मेरी पीड़ा कम होने के बाद मैंने कूल्हे हिलाये, तो रंजन समझ गया कि मैं तैयार हूँ

रंजन धीरे धीरे गांड मारने लगा, वह थोड़ी देर चोदता फिर रुक जाता जिससे वह थक नहीं रहा था।
वह मेरे कूल्हों पर हल्के चांटे मार रहा था, जिसमें मुझे और मजा आ रहा था।

करीब 20 मिनट बाद उसने मेरी गांड वीर्य से भर दी.
वीर्य से मुझे आराम मिला, गांड की जलन कम हुई।

मैं थोड़ी देर पहले ही झड़ चुकी थी। मैं मुश्किल से पैर फैलाकर बाथरूम गयी रंजन के सहारे!
रंजन ने भी अपना लंड धोया।

फिर हम नंगे ही सो गए.

सुबह मैंने देखा कि रंजन का लंड तना है.
मैं लंड चूसने लगी, मेरा मुँह बहुत फ़ैल गया मोटा लंड चूसते समय!

रंजन कमर हिलाने लगा, मेरे मुँह में झड़ गया, मैंने वीर्य पी लिया.

रचना- अगली बार मैं छुपकर तेरी चुदाई देखूंगी, लाइव शो!

कल्पना- मैं भी छुपकर तेरी चुदाई देखूंगी। रचना, तूने अपनी पहली सुहागरात में इतना मोटा लंड अपनी कुंवारी चूत में कैसे ले लिया? दर्द से चीखी नहीं?

रचना- रंजन ने फोरप्ले के बाद लंड मेरी चूत में डालने की कोशिश की, गया नहीं। फिर उसने लंड पर तेल लगाया और डाल दिया। मुझे इतनी जोर का दर्द हुआ कि चीख मेरे गले में घुट गयी। मेरी सहेलियों ने बताया था पहली बार दर्द होता है। जहाँ तक मोटे लंड की बात है, मैंने शादी के पहले सम्भोग का वीडियो नहीं देखा था। मुझे पता नहीं था लंड मोटा / पतला / लम्बा / छोटा होता है.

इतने में रंजन, कल्याण बाजार से वापिस आ गए.
उन्होंने नहीं बताया कि वे क्या लाये हैं।

हम चारों ने साथ खाना खाया।

सभी देर रात तक जगे थे, दोनों जोड़े अपने बेडरूम में आराम करने चले गए.

बेडरूम में जाकर कल्पना ने कल्याण को पूछा- रचना के साथ मजा आया?

कल्याण- अलग तरह का मजा आया, सबसे बड़ी बात यौन की नीरसता कटी। रचना को कसरत करनी चाहिए, बहुत जल्द थक जाती है। कल्पना, तुम को रंजन के साथ संभोग में मजा आया?
कल्पना- हाँ अलग ही अनुभव था, नीरसता तो मेरी भी कटी!

कल्याण- तुम्हें खुश देखकर अच्छा लगा। काश मैं उस कमरे में होता, तुम्हें रंजन के साथ खुश होते देखता!

कल्पना कल्याण की बात का मतलब समझ गयी कि दोनों दोस्त बीवी की अदला बदली एक ही कमरे में करना चाहते हैं.

तो कल्पना बोली- मैं भी तुम्हें रचना के साथ खुश होते देखना चाहती हूँ.

ऐसी ही बात रचना और रंजन के बीच हुई.

रात के आठ बजे कल्याण ने कल्पना को, रंजन ने रचना को एक पैकेट, जो वह आज बाजार से लाये थे, देकर कहा- आज रात की पार्टी में सिर्फ यह पहनना। पैकेट में मिनी स्कर्ट और छोटा बिन बांहों का ब्लाउज था, ब्रा पैंटी नहीं थी।

कल्पना, रचना ने वही कपड़े पहने.

रंजन, कल्याण ने बियर, चखना, फल, कल्याण के ड्राइंग रूम में पार्टी के लिए टेबल पर सजा दिया।
चखने में मसाले नहीं थे. मसाले लगे हाथ नाजुक अंगों में लगने से जलन हो सकती है।

कल्याण, रंजन सिर्फ लुंगी पहने थे।

कल्पना और रचना ड्राइंग रूम में आयी.
उनकी सुन्दर जाँघें, पेट, बांहें कपड़ों से बाहर थे, दोनों सेक्स की देवी लग रही थी.

पार्टी शुरू हुई, थोड़ी देर बाद कल्याण ने रचना को, रंजन ने कल्पना को अपनी गोद पर बिठा लिया; उनकी जांघों, पेट पर हाथ फेरने लगे, अपने गिलास से एक दूसरे को बियर पिलाने लगे।

दूसरा गिलास बियर का ख़त्म होते ही दोनों अपने गोद में बैठी सुंदरी की चूची दबाने लगे, उनकी चूत पर उंगली फेरने लगे.

कल्पना, रचना गर्म हो गयी, सभी कल्याण के बेडरूम में गए।

बैडरूम में जाते ही सभी ने कपड़े उतार दिए।
कल्पना, रचना ने पलंग पर पास पास पीठ के बल लेटकर अपने पाँव फैला दिए और उंगली के इशारे से रंजन, कल्याण को आने का निमंत्रण दिया।

कल्याण, रंजन का मोटा लंड देखकर सोच ही रहा था कि कल्पना कैसे लेगी।
रंजन ने कल्पना की चूत में लंड पेल दिया।

कल्पना आह कर उठी.
फिर कल्पना ने कमर हिलाकर संकेत दिया तो रंजन उसकी चुदाई करने लगा.

रंजन ने कल्याण का लम्बा लंड देखकर सोचा कि आज यह लंड रचना की चूत में बहुत अंदर जाएगा।
कल्याण रचना की चुदाई करने लगा।

कल्पना, रचना आनंद से सिसकारी ले रही थी और एक दूसरी को देखकर मुस्कुरा रही थी.

रंजन थोड़ी देर में हाम्फने लगा और पीठ के बल लेट गया।
कल्पना रंजन के लंड की सवारी उछल उछल कर करने लगी।

बाजू में रचना की चुदाई जारी थी.

रचना बोली- कल्याण थोड़ा रुको, मैं थक गयी हूँ।

कल्याण ने उतरकर अपने लंड पर तेल लगाया और कल्पना के पीछे आया।
कल्पना अभी भी उछल रही थी।

कल्याण ने कल्पना को उछलने से रोका और अपना लंड कल्पना की गांड में डालकर उसकी गांड मारने लगा।

रंजन का लंड कल्पना की चूत में था, कल्याण का उसकी गांड में!

कल्पना को दो लंड से नया मजा आया।

थोड़ी देर में कल्याण ने लंड बाहर निकाल लिया.

कल्याण ने पीठ के बल लेटकर रचना को उसके लंड की सवारी करने को कहा।
रचना लंड पर उछल रही थी, कल्याण उसके चूचे दबा, चूस रहा था।

रंजन रचना के पीछे आया और लंड पर तेल लगाकर रचना की गांड मारने लगा।
रचना के लिए दो लंड एक साथ लेने का नया मजेदार अनुभव था.

थोड़ी देर बाद रचना पलंग के किनारे घोड़ी बनकर खड़ी हुई, कल्याण जमीन पर खड़े होकर रचना की चूत की घमासान चुदाई करने लगा.
दोनों एक साथ झड़ गए.

कल्पना फर्श पर खड़ी होकर सामने की तरफ झुक गयी, उसके हाथ पलंग पर थे।
रंजन पीछे से कल्पना की चूत चोदने लगा.
थोड़ी देर में दोनों झड़ गए.

चारों ने माना कि एक दूसरे का सम्भोग देखने में वीडियो देखने से ज्यादा मजा आया।

तब से हर शनिवार, इतवार को उनका सामूहिक चुदाई का कार्यक्रम चलता जब तक बच्चे नाना / मामा के घर से वापस नहीं आ गए।

उसके बाद से जब बच्चे नाना / मामा के घर, या स्कूल की पिकनिक पर जाते, तभी सामूहिक सम्भोग होता!

कल्याण, रंजन पहले से ज्यादा खुश थे, यौन क्रीड़ा की नीरसता नहीं रही थी, उनका अपने काम में मन लगता, उनकी तरक्की हो गयी।

कल्पना, रचना भी खुश थी।

पति पत्नी का सम्भोग भी फिर से जोश भरा हो गया था।

रंजन, रचना कसरत करने लगे थे, ये अब जल्दी नहीं थकते.

जिस दिन कल्याण रचना का सम्भोग का मन होता, कल्याण वर्क फ्रॉम होम करता।
बच्चे स्कूल जाने जाने के बाद कल्याण रचना के फ्लैट में जाता, दोनों सम्भोग का मजा लेते।

कल्याण की पत्नी कल्पना रंजन के फ्लैट में बाहर से ताला लगा देती जिससे कोई अचानक आ जाए तो ताला देखकर लौट जाये।
कार्यक्रम ख़त्म होने पर कल्याण कल्पना को फ़ोन करता, कल्पना ताला खोल देती।

यही रंजन कल्पना की यौन क्रीड़ा के समय किया जाता.

कल्याण रचना के बड़े चूचों पर मुग्द्ध है.
वह रचना को पलंग पर बकरी की तरह खड़ा करता, गले में बेल्ट पहनाकर, बेल्ट से बंधी रस्सी पलंग पर बांध देता, खुद ग्वाला बनकर, बर्तन चूचों के नीचे रखता, चूचे दबाकर, निप्पल मरोड़कर दूध निकलने जैसा करता।

रचना बकरी के तरह मिमियाती, दोनों खूब हँसते।
फिर घमासान सम्भोग होता!

कल्पना, रंजन को मुख मैथुन में बहुत मजा आता, दोनों 69 पोज़िशन में मजा करते।
रंजन का लंड चूस चूस कर कल्पना उसका वीर्य पी जाती, उसको वीर्य पीना अच्छा लगता।

वीर्य पीने का एक और कारण है.
कल्पना ने पढ़ा है कि वीर्य में प्रोटीन, विटामिन होते है, जो सेहत के लिए अच्छे हैं।

रंजन कल्पना की चूत मस्ती से चूसता, कल्पना के झड़ जाने पर उसकी चूत का कामरस चाव से चाट कर पी जाता।
दोनों एक दूसरे को मूत्र स्नान कराते, एक दूसरे का मूत्र भी पी लेते।
सम्भोग तो जोरदार होता ही!

चारों रोल प्ले का खेल खेलते।
कभी पत्नियां शिक्षिका / कॉल गर्ल / सेल्स गर्ल का रूप धरती।
कभी पति शिक्षक / कॉल बॉय/ सेल्स बॉय का रूप धरते.

जब एक पति जब टूर पर होता, दूसरा पति दोनों सहेलियों की यौन इच्छा पूरी करता।
उस समय उनका सबसे प्रिय खेल है उत्तर दक्षिण।

रचना उत्तर भारत की है, कल्पना दक्षिण।
पीठ के बल लेटकर रचना अपने पाँव अपनी छाती की तरफ मोड़ लेती, कल्पना रचना के जांघों के दोनों तरफ पाँव करके घोड़ी के समान खड़ी होती।

कल्याण / रंजन जो भी घर में होता, उनकी बारी बारी चूत चोदता।
कल्पना रचना एक दूसरी के चूचे दबाती.

दोनों सहेलियों की शादी के 20 साल बीत गए है, उनकी उम्र 41 पतियों की उम्र 43 हो गयी है।
उनका पार्टनर स्वैप सेक्स आनंद लेना अभी भी जारी है।

बच्चे कॉलेज हॉस्टल में रहकर पढ़ाई कर रहे हैं।

अब चारों हर शनिवार को एक ही बेड रूम में सम्भोग करते है और लाइव सेक्स शो का मजा लेते हैं.

पाठिकाओं की यदि पति अदला बदली की इच्छा है, तो इस कहानी से प्रेरणा लेकर अपनी सहेली से बात करें।
हम चारों के बीच घुसने की कोई संभावना नहीं है.

आपको पार्टनर स्वैप सेक्स स्टोरी कैसी लगी?
मुझे बतायें.
अपने विचार बताते समय कहानी का नाम भी लिखें.
[email protected]

About Abhilasha Bakshi

Check Also

दोस्त ने मेरी गर्लफ्रेंड चोदी तो मैंने उसकी गर्लफ्रेंड चोदी (Dost Ne Meri GirlFriend Chodi To Maine Uski Girlfriend Chodi)

दोस्तो, मैं अजय आज आपको बताने जा रहा हूँ कि कैसे मेरे मन में अपने …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *