पति के दोस्तों ने मुझे अपनी रंडी बनाया- 2 (Hot Desi Bhabhi Porn Kahani)

हॉट देसी भाभी पोर्न कहानी में पढ़ें कि मैं कैसे अपने पति के चार हरामी दोस्तों से चुद गयी. मेरे पति उस वक्त उसी कमरे में शराब के नशे में धुत्त पड़े थे.

कहानी के पहले भाग
पति के दोस्तों ने मेरी वासना जगाई
में अपने पढ़ा कि मैं अपने पति के साथ सेक्स का मजा लेने के लिए तैयार हुई थी कि उनके चार दोस्त आ धमके!
चारों पीने खाने का सामन लेकर आये थे.
सब बैठ कर पीने लगे. मैं भी उनमें शामिल थी.
मेरे पति के दोस्त सेक्स की बातें करने लगे थे, सबकी नजर मेरे सेक्सी शरीर पर टिकी थी. मैं भी वासना की आग में जली जा रही थी.

यह कहानी सुनें.

Hot Desi Bhabhi Porn

अब आगे हॉट देसी भाभी पोर्न कहानी:

रमण पीछे आकर मेरे कंधों को सहलाते हुए कान में बोला- कामिनी डार्लिंग, तेरा कुणाल तो आउट हो गया. अब तेरी मखमली चूत तो प्यासी रह जायेगी.

उसकी गर्म सांसें मेरे कान को लग रही थी जिसके कारण एक करंट सा दौड़ गया मेरे जिस्म में!
तभी अजय और मनीष मेरे दोनों तरफ बैठ गए और मेरी मांसल जांघों को सहलाने लगे.

मनीष ने कहा- कामिनी एक रात के लिए कमीनी बन जा. एक साथ चार लंड तेरे छेदों को चोदेंगे. तेरी चूत गांड मुख सब अपने माल से भर देंगे।

वैसे भी मैं बहुत समय से चुदी नहीं थी, ऊपर से दो पराये मर्द मेरी जांघों को सहला रहे थे, चुदाई की बातें कर रहे थे.
ये सब मेरी वासना को 100 गुना बढ़ा रहे थे.

पर मैं कुछ भी नहीं बोली.

तब पंकज ने मेरी चूची सहलाते हुए बोला- चुदवा लो कामिनी, बुझा लो अपनी तड़पती हुई चूत की प्यास!
और उसने ज़ोर से मेरे दूध को मसल दिया.
मेरी ससश शस्सस स आहह हह करते हुए कामुक सिसकारी निकल गयी।

रमण भी कहाँ पीछे रहने वाला था, उसने मेरा निप्पल पकड़ लिया एक उँगली और अंगूठे के बीच में! और धीरे धीरे निचोड़ने लगा.

मुझे थोड़ा थोड़ा मज़ा आने लगा था.
आता भी कैसे नहीं … एक हाथ जांघ सहला रहा था एक चूची और तीसरा निप्पल निचोड़ रहा था।

अजय दूर बैठकर लंड सहला रहा था और बोल रहा था- आज कामिनी को रंडी बनाएंगे!

अब पंकज ने एक झटके में मेरा पूरा गाउन फाड़ दिया.
मैं चार पराये मर्दों के सामने जालीदार लाल ब्रा पेंटी में किसी रंडी की तरह लग रही थी।

अजय सोफे से उठकर पास आया और मुझे खड़ा कर दिया और गोल गोल घुमा कर मेरे गदराए जिस्म का मुआयना करने लगा.
उसने मेरी मोटी गांड पर जोरदार तमाचा मारते हुए कहा- देख रहा है रमण इस रंडी की गांड! क्या लगता है … कितनी साइज़ होगी इसकी?

मनीष ने कहा- बता कामिनी रंडी अपनी गांड का साइज़!
मैंने सिसकारी लेते हुए कहा- ससश शस्सस मनीष 38″ है।

पंकज ने अब अपना हाथ मेरी ब्रा के अन्दर डाल दिया.
जैसे ही उसका हाथ मेरी नंगी चूची पर लगा, मेरी फिर से आआह हहह निकल गयी.
रमण ने कहा- साली रंडी, गर्म हो रही है.
और मेरी ब्रा फाड़ दी.

ब्रा फटते ही मेरी दोनों चूचियाँ ऐसे उछल कर बाहर आयी जैसे किसी ने उनमें स्प्रिंग लगा दिया हो.

चूचियों के बाहर आते ही पंकज और अजय भूखे भेड़िये की तरह मेरी चूचियों पर टूट पड़े.
कभी सहलाते तो कभी इतनी जोर से दबाते कि मेरी चीख निकल जाती थी.

जैसे ही मैं चीखी, मनीष ने मेरे गाल पर एक तमाचा जड़ते हुए कहा- मादरचोद रंडी, चिल्ला मत कुतिया!
तमाचा इतना जोरदार था कि मेरे आंसू निकल गए.

मैंने रोते हुए ही कहा- मारो मत न … कर लो जो करना है.

इतना सुनते ही रमण ने मेरी पैंटी भी उतार दी.
अब मैं उन चारों के सामने बिल्कुल नंगी खड़ी थी.

रमण ने कहा- साली रांड … कितने साल से तुझे ऐसे नंगी देखना चाह रहा था. उफ्फ … मज़ा आ गया आज तो!

अब चारों अपने कपड़े उतार कर नंगे हो गए और अपने तगड़े लंड पकड़ कर मेरे पास आ गए.

रमण ने मेरे होंठों का रस पीना चालू किया.
पंकज मेरे दूध मसल रहा था और अजय पीछे से गांड की पहाड़ियों पर हाथ फेर रहा था.
वहीं मनीष मेरे पैर के अंगूठे से लेकर जांघ तक चाट रहा था।

मैं चुदाई के नशे में पूरी तरह धुत्त थी.
मेरे मुंह से ‘ससश शस्स आह हहह उफ्फ मम्मम’ की कामुक आवाज़ निकल रही थी जिससे पूरे हॉल का माहौल चुदाई वाला बन गया था.

अब मैंने शर्म को अलविदा कहा और उन लोगों से कहा- मुझे चाटते ही रहोगे या अपने लंड भी चुसवाओगे?

मैं घुटनों पर बैठ गयी, बिल्कुल एक पोर्न स्टार की तरह अपने चूचे मसलते हुए उन्हें अपने पास बुलाने लगी- आ जाओ मेरे शेरो … अपनी कामिनी रंडी को अपना लंड पिलाओ!

सब मेरे सामने खड़े हो गए अपना लहराता हुआ लंड लेकर!

सबसे अच्छा लंड रमण का था लगभग 7 इंच लम्बा और 3 इंच मोटा बिल्कुल गधे के लंड जैसा!
पंकज का करीब 6.5″, मनीष का कुछ 6 इंच का होगा.

बेचारे अजय का थोड़ा छोटा था, करीब 4.5 इंच का … पर मोटा बहुत था।
अब मैंने एक हाथ में रमण का पकड़ा और दूसरे में मनीष का अजय और पंकज पीछे आकर मेरे दूध से खेलने लगे।

मैंने रमण के लंड को सहलाते हुए उसकी चमड़ी पीछे की और उसके लाल सुपारे को चाटने लगी.
उफ्फ … कितना मस्त स्वाद था रमण के लंड का!
थोड़ा नमकीन थोड़ा कसैला!

मैंने रमण के गधे जैसे लंड को पूरा गले तक ले लिया और गों गों की आवाज़ करते हुए चूसने लगी।

रमण ने मेरे बाल पकड़ लिये और मुख के अंदर एक जोरदार झटका दिया और बेरहमी से मेरे मुंह की चुदाई करने लगा. वह कभी कभी थप्पड़ भी मार रहा था.
मुझे बड़ा मजा आ रहा था।

करीब आधे घण्टे तक चारों के लंड चूसे मैंने!
रमण ने मेरे मुंह में सारा माल भर दिया.
पंकज मेरे चेहरे पर माल निकाला और पूरे चेहरे पर मल दिया.

वहीं मनीष ने दूध पर और अजय ने मेरी गांड पर अपनी पिचकारी चलाई, मेरा सारा शरीर माल से भर दिया।

मैं अपने शरीर पर लगे मिक्स्ड वीर्य का स्वाद ले रही थी उंगली पर लेकर … जैसे पोर्न फिल्मों में लड़कियां करती हैं, वैसे कामुक पोज़ बना रही थी।

रमण ने अपना बैग खोला और उसमें से एक रस्सी निकाली.
फिर उसने मेरे हाथ पैर फैला कर सोफे की टांगों से बांध दिए और वह मेरी अंडर आर्म को चाटने लगा जो कि पसीने से लथपथ हो रही थी.

अब मैं छटपटाने सी लगी थी.
रमण बिल्कुल एक कुत्ते की तरह मेरे पसीने को चाट रहा था और गालियां दे रहा था- रंडी … बहन की लोड़ी … कितना मस्त स्वाद है रे तेरी बगल का!

एक तरफ रमण तो दूसरी ओर मनीष चाट रहा था.
मैं बस कामुक आवाजें निकालती हुई कह रही थी- उफ्फ रमण चाट लो मेरे कामुक जिस्म को! चाट चाट कर साफ कर दो!
वो बोला- हाँ मेरी बाज़ारू रांड, आज तो तेरे जिस्म का ऐसे स्वाद लेंगे कि तू जिंदगी भर याद रखेगी।

पंकज मेरे मुंह में लंड देकर बोला- चूस बहनचोद!
और मेरे दूध को चांटे मारते हुए मसल रहा था.

मैं भी मस्ती से लंड चूसने लगी और एक हाथ से चूत को रगड़ने लगी.
पंकज ने मेरा मुँह चोदते हुए एकदम से लंड बाहर निकाला और मेरी गहरी नाभि को अपने रस से भरते हुए मेरी मखमली फूली हुई चूत पर करारा थप्पड़ जड़ दिया।

मैं दर्द से चीख पड़ी- मादरचोदो, मारो तो मत!
रमण ने दो तीन चांटे मार दिए और बोला- चुप कर रांड, तेरे जैसी गदराई जवानी को मार मार कर चोदने में ही असली सुख है।

मुझे इतना मज़ा आ रहा था दोस्तो … कि मेरी चूत से झरना बहने लगा था।

अब रमण ने अपनी पोज़िशन बदली और मेरी चूत को सहलाने लगा.
जैसे ही उसका मर्दाना सपर्श चूत पर महसूस हुआ, मैं सिहर गयी और अकड़ते हुए झड़ गयी.

रमण ने अब मेरी चूत की फांकों को फैलाते हुए चूत पर अपनी गर्म जीभ से हमला कर दिया.
उफ्फ … इतना प्यारा अहसास मैं शब्दों में नहीं बता सकती.

मैंने उसके सर को जोर से चूत पर दबा दिया और मनीष से कहा- मनीष मेरी गांड के छेद को चाट न यार!
मनीष मेरी गांड चाटने लगा.

मैंने अजय और पंकज के लंड पकड़ लिये, अजय का मुँह में ले लिया औऱ पंकज का लंड अपने निप्पल पर रगड़ने लगी।

मेरा पति सो रहा था और उसके चार दोस्त मुझे अपनी रंडी बनाकर मेरे गदराए बदन के मज़े लूट रहे थे।

मैंने रमण से कहा- बस करो रमण, अब डाल दो अपना गधे जैसा लंड मेरी चुदासी चूत में! चोद दो अपनी रंडी को … छिनाल बना लो मुझे … बस अब घुसा दो अपना लौड़ा।
रमण ने कहा- घोड़ी बन जा रांड, एक बार में पूरा लंड पेलूँगा तेरी चूत में!

मैं झट से घोड़ी बन गयी और गांड हिलाते हुए कहा- पेल दो रमण … कुतिया की तरह चोदो अपनी कामिनी रंडी को!

रमण ने मेरी गीली चूत और अपने लंड पर थूका और पंकज से कहा- रंडी के मुंह में गले तक लंड घुसा दे ताकि ये चीख न पाए!
और मनीष से मेरी गांड के छेद में उंगली डालने को कहा.

अजय नीचे लेटकर मेरी चूचियों को चूसने लगा।
तभी रमण ने जोरदार झटके के साथ चूत में लंड पेल दिया.

पंकज ने मुंह में और मनीष ने उंगली की जगह अपना लंड ही घुसा दिया।

मेरे तीनों छेदों में लंड जा चुके थे.

अब तीनों ने धीरे धीरे चोदना शुरू किया और अपनी स्पीड बढ़ाते गए.
पूरा कमरा चुदाई की आवाज़ से गूंज रहा था.

तभी पंकज ने अपने लंड को बाहर निकाल लिया और मैं ‘आहह हहह यस और जोर से चोदो’ कहती हुई चुदाई का मज़ा लेने लगी।

पंकज ने फिर से मेरे मुख को लंड से भर दिया और तेज़ तेज़ झटके मारने लगा.
रमण और मनीष भी पूरी ताकत से मेरी चूत और गांड मार रहे थे.

पंकज आह उफ्फ ओह्ह करते हुए मेरे मुख में ही झड़ गया और लंड को जोर से दबा दिया.
मुझे उसका गाढ़ा गर्म माल पीना पड़ा और फिर मैंने चाट कर पूरा लंड साफ कर दिया।

करीब 10 मिनट की घमासान चुदाई के बाद मनीष ने मेरी गांड को अपने कामरस से भर दिया.
रमण अभी भी मेरी चूत का चौराहा बनाने में लगा था और यही कोई 10-12 झटके मारने के बाद अपने गरमागर्म वीर्य की पिचकारी चूत के अंदर ही छोड़ते हुए मेरे ऊपर गिर गया।

इसके बाद हमने एक एक पेग और पिया और फिर से चुदाई का खेल शुरू हो गया.
चारों ने मिलकर मुझे सुबह 5 बजे तक चोदा।
सबने बारी बारी से मेरी चूत और गांड मारी, मेरे मुंह को चोदा.

मेरी चूत और गांड दोनों सूज गई …इतना चोदा कमीनों ने अपनी कामिनी रांड को!
सालों ने मेरे पूरे शरीर पर जगह जगह माल गिरा कर माल से नहला दिया था मुझे!

मैंने रमण से कहा- यार, अब माल तो साफ कर दो!
रमण बोला- ठीक है, सीधी लेट जाओ जमीन पर!
और उसने पंकज को आँख मारी.

मुझे कुछ समझ नहीं आया.

तभी चारों मेरे चारों ओर खड़े हो गए अपना लंड पकड़ कर!
मैं कुछ बोल पाती … उससे पहले ही सबने मेरे जिस्म पर मूतना चालू कर दिया।

रमण ने कहा- मुँह खोल रंडी!
और वह मेरे चेहरे पर मूतने लगा.

मुझे भी जोश आ गया और मैं मुंह खोलकर उसका मूत पीने लगी.

मुझे मूत से नहला कर चारों अपने कपड़े पहन कर चले गए.
हॉट देसी भाभी पोर्न के बाद मैं भी चुदाई से थक कर वैसे ही सो गई.

दो घण्टे बाद मैं उठकर नहायी और घर को साफ करके फिर से सो गई.
कुणाल का नशा अभी तक नहीं उतरा था.

वह शाम को उठा और रात भर मुझे पेला!
वो कहानी कभी और सुनाऊँगी।

तो दोस्तो, कैसी लगी कामुक कामिनी की हॉट देसी भाभी पोर्न कहानी?
[email protected]

About Abhilasha Bakshi

Check Also

मेरा गुप्त जीवन- 189 (Mera Gupt Jeewan- part 189 Filmi Kaliyon Ke Jalwe)

This story is part of a series: keyboard_arrow_left मेरा गुप्त जीवन- 188 keyboard_arrow_right मेरा गुप्त …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *