फेसबुक वाली कुंवारी दोस्त को पार्क में चोदा (Facebook Wali Kunwari Dost Ko Park Me choda)

हैलो फ्रेंड्स.. उम्मीद करता हूँ आप सभी अच्छे होंगे।
मेरा नाम सुमित है, मैं ईस्ट दिल्ली में रहता हूँ.. सेल्स की जॉब करता हूँ और थोड़ी कंप्यूटर की जानकारी भी है।

यह मेरी पहली कहानी है, उम्मीद करता हूँ आप सबको पसंद आएगी।

मैंने कुछ टाइम पहले फ़ेसबुक पर एक फ्रेंड बनाई.. उसका नाम रजनी (बदला हुआ नाम) है। उसके बारे में क्या कहूँ.. जितना कहो कम ही होगा।

मैंने एक रोज़ उससे उसकी फोटो देखने के लिए कहा.. तो वो मान गई। मैं तो देखता ही रह गया.. वो एक नगीना थी।

वो दो साल से कॉलेज की स्टूडेंट है और उसका फिगर 32-28-32 है। वो एकदम गोरी है.. उसे कोई भी देखे तो उसका दीवाना हो जाए। उसकी आँखें तो बस.. आग हैं।

कुछ दिनों बाद हम दोनों एक मॉल में मिले.. घूमे। मैंने उसे शॉपिंग कराई और फिर mcdonald गए.. बात की.. फिर कुछ देर बाद वो चली गई।

श्याम को मैंने उससे फ़ेसबुक पर पूछा- तुम्हें मेरे साथ कैसा लगा?
तो उसने कहा- मैं आज बहुत खुश हूँ।
मैंने उससे कहा- अब फिर कब मिल रही हो?
तो उसने कहा- बहुत जल्दी ही।

एक रोज़ उसका मैसेज आया कि कल क्या कर रहे हो?
मैंने कहा- कुछ खास नहीं.. तुम बताओ..

उसने मिलने के लिए बोला.. तो मैं झट से रेडी हो गया।
मैंने पूछा- कहाँ चलना है?
उसने कहा- जहाँ तुम चाहो।

दोस्तो, वो रात बड़ी मुश्किल से कटी।
अगले दिन मैं उसे दिल्ली यूनिवर्सिटी के पास एक पार्क है.. जो मोंटा पार्क के नाम से मशहूर है.. ये पार्क एक ‘कपल-पार्क’ है।

उस दिन रजनी ने काली जीन्स और काला टॉप पहना था। मेरा मन तो कर रहा था कि अभी उसे अभी एक ज़ोर से हग कर लूँ।

खैर.. हम दोनों वहाँ पहुँचे.. मैंने साथ में कोल्डड्रिंक चिप्स लिए और अन्दर पार्क में आ गए। हम दोनों एक झाड़ी की आड़ में बैठ गए..
कुछ देर हम दोनों बातें करते रहे.. बात करते-करते मैंने उसका हाथ अपने हाथों में ले लिया। उसने कुछ नहीं कहा.. तो मैं समझ गया कि आज ऊपर वाला मुझ पर कुछ ज़्यादा ही मेहरबान है।

फिर मैंने अपना एक हाथ उसकी कमर में डाला.. क्या कहूँ.. वो पल मेरे लिए हमेशा यादगार रहेगा। तभी मैंने उसे हग कर लिया और मैं उसकी पीठ पर हाथ फेरने लगा।

फिर कुछ देर बाद मैंने उसे एक किस किया.. तो उसने कहा- यहाँ नहीं।
मैंने कहा- यहाँ कोई नहीं आएगा।

फिर वो भी मेरे साथ किस करने लगी। मैंने उसके मम्मों को धीरे से दबा दिया.. उसके मम्मे इतने टाइट थे.. मानो पत्थर हों।

धीरे-धीरे वो भी जोश में आने लगी, मैंने धीरे से उसका टॉप ऊपर किया और अन्दर हाथ डाला और उसकी ब्रा का हुक खोल दिया।
फिर मैंने उसकी ब्रा हटाई तो मैं पागल हो गया।

मैंने उसकी जीन्स का बटन भी खोल दिया.. उसकी जीन्स नीचे की ओर सरका दी। उसने पिंक कलर की पैन्टी पहनी थी। उफ़.. क्या लग रही थी वो.. एक तो गोरी और अन्दर से उसकी चूत पर एक भी बाल नहीं।
पक्का उसने सुबह में ही साफ़ किए होंगे।

मुझसे रहा नहीं गया और मैंने उसकी चूत पर अपना मुँह लगा दिया और जीभ से सक करने लगा।
अब उसे भी मज़ा आ रहा था।

तभी मैंने अपना लण्ड निकाला क्योंकि जीन्स के अन्दर बहुत टाइट हो रहा था।
मैं आपको बता दूँ.. मेरा लण्ड काफी लम्बा और मोटा है।

मैंने लण्ड को उसके हाथ में दिया तो उसने लेने से मना कर दिया.. पर फिर मान गई।
मैंने उसे मुँह में लेने को कहा.. तो उसने ले लिया.. पर मेरा पूरा लण्ड मुँह में लेना ज़रा मुश्किल है.. क्योंकि मेरा लण्ड बड़ा है।

वो पहली बार कर रही थी.. पर मुझे मज़ा पूरा दे रही थी।
मैंने उसे वहीं लिटा दिया और उसकी जीन्स भी उतार दी.. तो वो ज़रा सी डर गई.. पर मेरे समझाने पर मान गई।

मैंने लण्ड उसकी चूत पर लगाया और अन्दर को सरकाया.. पर बात नहीं बनी। वो अब तक कुंवारी चूत थी.. तो मैंने ज़रा सा थूक उसकी चूत पर डाला और फिर से लण्ड उसकी चूत पर लगा दिया।

अब मैंने अन्दर डाला.. तो वो दर्द से चिल्ला पड़ी।
मैंने उसके होंठों पर होंठ रख दिए और किस करने लगा।

जब वो नॉर्मल हुई तो मैंने एक ज़ोर से धक्का लगाया.. तो मेरा आधा लण्ड उसकी चूत में घुस गया। मैंने उसकी चूत की तरफ देखा तो उसमें से खून भी निकल रहा था.. पर मैं रुका नहीं और लगा रहा।

तभी मैंने एक बार और ज़ोर से धक्का मार दिया.. वो दर्द से कंपकंपा रही थी।
मैं उसके मम्मों को दबाने लगा, अब उसे ज़रा आराम महसूस हो रहा था।

कुछ पलों के बाद मैंने धक्के लगाना चालू किए। अब उसे अब दर्द के साथ साथ मज़ा आने लगा था और वो ‘आहह.. ओहह..’ कर रही थी।

मैं बीच-बीच में उसके चूचुकों को अपने दाँतों से काट रहा थान उसे भी मज़ा आ रहा था।

करीब 5 मिनट बाद उसने कहा- मेरी चूत से कुछ गिर रहा है।
मैं समझ गया कि उसका पानी निकल गया है। फिर कुछ देर बाद जब मेरा पानी निकलने वाला था.. तो मैंने एकदम से लौड़ा निकाल कर उसके पेट पर मेरा रस गिरा दिया।

इसके बाद हम दोनों उठे और खुद को ठीक किया। फिर उसे घर जाना था.. तो मैंने उसे उसके घर ड्रॉप कर दिया।

उम्मीद करता हूँ.. आप सबको मेरी यह कहानी पसंद आई होगी। दोस्तों अगर पसंद आई तो मेल कीजिए। मुझे और कहानी लिखने का प्रोत्साहन मिलेगा।
[email protected]

About Abhilasha Bakshi

Check Also

शालिनी और उसकी सहेलियाँ

हेलो दोस्तो, मैं मोहित, आपको तहे दिल से और सभी कन्याओं और लड़कियों को लंड …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *