वाटर पार्क में मिली हॉट भाभी की चुदाई

मैरिड गर्ल पोर्न कहानी वाटर पार्क में मिली एक लड़की से दोस्ती और फिर चुदाई की है. उसने मुझे अपने घर बुलाकर सेक्स का मजा लिया मेरे साथ!

फ्रेंड्स, मेरा नाम राज है.
मैं गुजरात का रहने वाला हूँ. मेरी उम्र 22 साल की है.

यह मैरिड गर्ल पोर्न कहानी लगभग एक साल पहले की है.
तब मैं कॉलेज से पास आउट हुआ था.

गर्मी का मौसम था और हम दोस्तों ने वाटर पार्क में जाने का प्लान बनाया था.
हम 4 दोस्त ही थे जो जाने वाले थे.

अगले दिन हम सब निकल गए. वहां सब टिकट लेना आदि हो गया और हम सब अन्दर चले गए.

हम सभी एग्जाम खत्म होने की वजह से बहुत जोश में थे.
सबने चेंजिंग रूम में जाकर कपड़े चेंज कर लिए, सभी दोस्तों ने स्विमिंग टी-शर्ट और ट्राउजर पहन लिए.

चूंकि मैं जिम जाता था इसलिए मैंने टी-शर्ट नहीं पहनी … बॉडी बनाई है, तो किस काम की!

हम लोग पूल के पास आ गए, बारी बारी सब राइड में बैठने लगे.

अब तक तो हम बहुत मजा कर रहे थे, सामने कोई लड़की दिख जाती तो उसको भी देख रहे थे.
पर वे ज्यादा भाव नहीं दे रही थीं.

मुझे प्यास लगी तो मैं पानी पीने के लिए चेंजिंग रूम की तरफ आ रहा था.
तभी मेरी नजर एक हॉट लड़की पर पड़ी.
वो तो मुझे बाद में पता चला कि वो शादीशुदा है.

उसके बारे में कुछ बता देता हूं.
उसकी लंबाई लगभग 5.5 फीट और फिगर 32-28-34 का था.
रंग गोरा सा और कामुक कर देने वाली झील सी गहरी आंखें मानो उसकी ओर देखता ही रहूं.
फिर मैं उसको नजरंदाज करके पानी पीने चला गया.

उसने भी मुझे देखा.
फिर मैं वापस आया, वो वहीं पर बैठी थी.

मैंने सोचा कि चलो थोड़ा ट्राई मारकर देखता हूं.
मैं वहां साइड में खड़ा होकर राइड को देखने लगा.
थोड़ी थोड़ी देर में मैं इसको भी देख रहा था.
वो भी मेरी तरफ देख रही थी.

मुझे बेहद मजा आने लगा था.
कुछ देर बाद ये हुआ कि हम सिर्फ एक दूसरे को ही देख रहे थे.

फिर उसकी सहेली उसके पास आई और उसे साथ में ले जाने के लिए कहने लगी.
लेकिन उसने मना कर दिया.

उसकी फ्रेंड के जाते ही मैंने उसको इशारा किया.
उसने भी मुझे देख कर मुझे इशारा किया.

मैंने उसको अपने पीछे उस ओर आने को कहा, जहां थोड़े कम लोग थे.

मैंने उसको पूछा- अपनी सहेली के साथ आई हो?
उसने हां बोलते हुए पूछा- क्यों … तुम क्या अकेले आए हो?
मैं- नहीं, दोस्तों के साथ हूं. यहां से जा रहा था, तुमको देखा तो यहीं रुक गया.
मैंने मुस्कुराते हुए बोल दिया.
वो भी मुस्कुरा दी.

मैंने पूछा- क्या तुम्हें राइड्स में बैठना पसंद नहीं है?
उसने कहा- मैं यहां बहुत बार आ चुकी हूं … इसलिए बोर हो रही हूं.

मैं बोला- तो चलो, मैं तुमको कंपनी देता हूं.
वो पहले तो सकपका गई और मुझे देखने लगी थी.

फिर उसने सोच कर कहा- ठीक है चलो. मेरा भी टाइम पास हो जाएगा.
ये वाटर पार्क बड़ा था, इसलिए मुझे उम्मीद थी कि मेरे दोस्त मुझे नहीं देख पाएंगे और वैसे भी वे लोग अपनी मस्ती में खो गए थे.

मैंने उसका हाथ पकड़ा और चल दिया.
हम दोनों ऐसे हाथ पकड़े हुए थे मानो हम दोनों गर्लफ्रेंड ब्वॉयफ्रेंड हों.

मुझे लगा था कि वो बहुत बार आकर सच में बोर हो गई है.
लेकिन उसने अपनी फ्रेंड को मना किया था, उसका कारण शायद कुछ और ही था.

बात ये थी कि उसको राइड में बैठने का डर लगता था. ये मुझे तब पता चला, जब हम राइड में बैठने के लिए गए.

वो मुझे बहुत मना करने लगी.
फिर जैसे तैसे वो मान गई.

दोस्तो, वो राइड वैसे तो इतने खतरनाक नहीं थी लेकिन बीच में अंधेरा हो जाता था और अंत में पानी में गिर जाते थे. इसलिए कमजोर दिल वालों को जरा डर लगता था.

वो राइड 2 लोग की ही थी.
जैसे ही हम बैठे, वो डर के मारे कुछ नहीं बोल रही थी.

मैंने उससे कहा- डरो मत यार, कुछ नहीं होगा … मैं हूं ना!
उसके चेहरे पर कुछ पल के लिए शान्ति सी दिखी, मगर राइड स्टार्ट होते ही वो डर के मारे चिल्लाने लगी.

फिर जैसे ही राइड खत्म हुई कि हम दोनों पानी में गिर गए.
उसको लगा जैसे पानी काफी गहरा है. उसने घबरा कर मुझे जोर से अपने सीने से लगा लिया.

तब मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. उसके चूचे एकदम से मेरे सीने से दब रहे थे.
मैंने भी हंसते हुए उसको छोड़ा नहीं.

मेरा हाथ उसकी कमर के पीछे था.
मैंने धीरे से अपना एक हाथ उसकी गांड पर रख दिया जिससे वो एकदम से संभल गई और मुझे घूरने लगी.

फिर हम दोनों बाहर आ गए.

अब हम बहुत फ्रेंडली हो गए थे.
मैं उसका मजाक उड़ा रहा था तो वो चिढ़ रही थी.

फिर हम दोनों तीन और अलग अलग राइड में बैठे.
वहां भी मुझे उसको छूने का मौका मिल रहा था.
वो भी अब कुछ नहीं बोल रही थी.

फिर हम लोग लेजी रिवर नामक राइड में गए.
उसमें हम दोनों ट्यूब में लेट कर जाने वाले थे.

वो मेरा हाथ पकड़े हुई थी ताकि मैं दूर न चला जाऊं.
मैंने शरारत करने का सोचा.
मैं ट्यूब में से निकल कर पानी में आ गया, वो मुझसे थोड़ी दूर थी.

वो मुझे देख न ले, इस प्रकार में पानी के अन्दर चला गया और उसके नीचे को आ गया.
नीचे से ही मैंने देखा कि उसकी मस्त गांड पानी में गजब दिख रही थी.

मेरा उसकी गांड को पकड़ कर मसल देने का मन कर रहा था.
पर मुझे डर लगा कि वो चटक न जाए.

मैं नीचे जाकर अचानक से उसके सामने आ गया और उसके ट्यूब को उल्टा कर दिया जिससे वो पानी में गिर गई और बहुत डर गई.
उसने मुझे बहुत मारा.

मैं उसको हंसते हंसते गुदगुदी करने लगा जिससे वो थोड़ी शांत हो गई.
वो फिर से ट्यूब पर बैठ गई.

मैं अभी भी पानी में था और उसके साथ बातें करते करते तैर रहा था.

फिर उस पानी में ही एक पुल व गुफा जैसा कुछ आता है. मैं उसके ट्यूब को उस गुफा के एक कोने की ओर ले जा रहा था.
वो बोली- ये कहां ले जा रहे हो?

मैंने कुछ नहीं बोला, बस उसे ले जाता रहा. कुछ पल बाद मैंने हिम्मत करके उसकी गांड में उंगली कर दी, इससे वो एकदम से उचक सी गई.
मैं उसकी गांड को दबाता रहा.

उसने कुछ नहीं कहा, बस मुझे देखती रही.
मैं उसको एक कोने में ले जाकर उसके पैरों की उंगली को किस करने लगा.
साथ में मैं उसकी गांड भी दबा रहा था.

वो भी अब ट्यूब से उतर कर पानी में आ गई.
मैंने उसकी तरफ अपनी बांहें फैला दीं.
वो मेरी बांहों में समा गई.
हम दोनों ने एक दूसरे को हग कर लिया.

तब वहां कोई नहीं था.
वो मुझे किस करने लगी.

किस करते करते मैं उसकी गांड को दोनों हाथों से मसल रहा था.
वो बहुत गर्म हो रही थी.
चूंकि हम दोनों चिपके हुए थे तो मेरा लंड उसकी चूत से रगड़ खा रहा था.
वो भी अपनी चूत को मेरे लौड़े पर घिस रही थी, उसकी वासना जाग रही थी.

तभी मैंने अपना एक हाथ उसकी चूत के ऊपर रख दिया जिससे वो उछल पड़ी.
मगर उसने मेरे हाथ को नहीं हटाया.
वो मुझे पूरी तरह साथ दे रही थी.

मैं उसके चूचों को ऊपर से ही दबाने लगा.

फिर हम थोड़े और कोने में गए ताकि हमें कोई भी न देख सके.
वैसे भी वहां काफी अंधेरा था.

वो बहुत गर्म हो गई थी, उसने भी मना नहीं किया.

मैंने उसके टॉप को ऊपर से निकाल दिया और उसके बड़े बड़े मम्मे को चूसने लगा.
उसने भी मेरे स्विमिंग ट्राउजर में हाथ डाल कर मेरे गर्म लौड़े को बाहर निकाल लिया और हिलाने लगी.

हम दोनों बहुत गर्म हो गए.
मैंने उसकी आंखों में वासना से देखा तो वो पानी में जाकर मेरे लौड़े को चूसने लगी.
आआ आह … क्या मजा आ रहा था.

फिर वो ऊपर आकर फिर से मुझे किस करने लगी.

थोड़ी देर बाद हमें बाहर निकलना पड़ा, वरना वहां के वॉलंटियर आ जाते.

हम दोनों ने फिर से एक बार उस राइड में जाकर मस्ती की. इस बार वो मेरे साथ मेरी गर्लफ्रेंड की तरह मस्ती कर रही थी.
मैं चलते चलते उसकी गांड को मसल देता और वो भी मेरे लंड को दबा देती.

हम दोनों ने वहां बहुत मजे किए लेकिन पब्लिक प्लेस की वजह से सेक्स नहीं कर पाए.

उसने मुझे अपना फोन नम्बर दिया और मिलने के लिए कहा.

नंबर एक्सचेंज करने की वजह से अब हमारी बातें होना चालू हो गई थीं.

दोस्तो, सेक्स कहानी में मैंने उस भाभी का नाम नहीं बताया था, इसके लिए माफी चाहता हूँ.
भाभी का नाम प्रियंका था. उसकी उम्र लगभग 26 साल की रही होगी.

बातों बातों में मुझे पता चला कि वो शादीशुदा है.
यह सुनकर मुझे थोड़ा बुरा लगा क्योंकि मुझे वो सब एक शादीशुदा के साथ करना पसंद नहीं था.
लेकिन क्या करूं, उस भाभी की जवानी के सामने मेरा मन पिघल गया था.

चूंकि वो अभी अभी नई दुल्हन बनी थी और वाटर पार्क में उस दिन उसका पति उसके साथ नहीं था. वो अपने किसी काम की वजह से कहीं पर चला गया था. जिस वजह से वो मेरे साथ मस्ती करने लगी थी.

लेकिन सोचने की बात ये थी कि क्या भाभी को उसका पति संतुष्ट नहीं कर पाता था जिस वजह से वो मेरे साथ मस्ती करने लगी थी.

ये मेरे लिए एक सवाल था, जो मुझे उससे पूछना था.

जब मेरी प्रियंका भाभी से बात होनी शुरू हुई तो मैंने देखा कि वो मुझसे देर रात में बात करती थी.
शायद दिन में ज्यादातर समय उसका पति उसके साथ ही रहता था इसलिए वो मुझसे बात नहीं कर पाती थी.

रात को उसके पति सो जाने के बाद वो मुझे मैसेज करती, जिससे मैं समझ गया था कि वो अपनी भूख नहीं मिटा पा रही है.
इसलिए उसे मेरा कसरती शरीर पसंद आ गया है.

इसी बात का फायदा उठाते हुए मैंने उससे कामुक बातें करना चालू कर दी थीं.
तीसरे दिन ही मैंने जानबूझकर अपने लौड़े का फोटो उसको भेज दिया.

जैसे ही उसने मेरे लंड की फोटो को देखा, मैंने झट से उसे डिलीट कर दिया.

वो मेरे हथियार की फोटो देखकर नीचे से पानी पानी हो गई, वो बोली- डिलीट क्यूं कर दी?
मैंने कहा- मुझे लगा तुम भड़क जाओगी.
वो बोली- इसमें भड़कने की क्या बात है. मैं पहली बार थोड़ी देख रही हूं! बल्कि मैंने तो इसे प्यार भी किया है.

मैंने उसे फिर से लौड़े की फोटो भेज दी.

वो उसे देख कर मानो वो पागल हो गई. वो बोली- तुम्हारा तो बहुत बड़ा है … तुम्हारी गर्लफ्रेंड का तो भाग्य खुल गया होगा!
मेरे लौड़े का साइज 7 इंच का है.

मैंने कहा- मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है भाभी जी!
वो भाभी जी सुनकर शर्मा गई.

मैंने हंसते हुए पूछ लिया- क्यों तुम्हारे पति का बड़ा नहीं है क्या?
वो उदास वाला इमोजी भेजकर बोली- हां यार … उसका बहुत छोटा है.

मैं बोला- उदास क्यों हो रही हो भाभी … तुम्हारे लिए तो हम सब कुछ कुर्बान कर देंगे. तुम्हारी याद हमें रात को सोने नहीं देती.

मैंने उसको अपने लौड़े का हिलाने का वीडियो भेज दिया.
जिससे वो और गर्म हो गई.

मैंने उससे उसकी चूची की फोटो मांगी.
उसने झट से भेज दी.

उसकी चूचियों की नंगी फ़ोटो को देख कर मेरी आंखें फटी की फटी रह गईं.
उसने बेबीडॉल टाइप नाइट ड्रेस पहनी थी जिसमें उसके बड़े बड़े बूब्स बाहर ही निकलने को मचल रहे थे.

फिर दूसरी फोटो में उसकी चिकनी जांघें साफ़ दिख रही थीं क्योंकि वो नाइटी पहले से ही फ्रॉकनुमा थी और उसने फोटो खींचते वक्त उसे अपनी चूत तक कर दिया था.

मैंने उसकी बॉडी की तारीफ करते हुए बोला- क्या मस्त बॉडी है भाभी … लगता ही नहीं कि तुम शादीशुदा हो. मेरा मन कर रहा है कि अभी आकर तुमको चोद दूं!
वो बोली- आजा मेरे राजा, किसने मना किया है … और तुम ये भाभी कहना बंद करो … नहीं तो मारूंगी!
मैंने हंस कर लिखा- ठीक है … सिर्फ़ प्रियंका कह कर बुलाऊंगा.

उसने स्माइल वाला इमोजी भेज दिया.
फिर उसने अपनी चूत पर हाथ फेरते हुए एक वीडियो भेजा और लिखा- इसका कुछ करो ना राज!

अब हमारी सेक्स चैट चालू हो गई.
उसने बाथरूम में जाकर वीडियो कॉल किया और अपनी चूत में उंगली करने लगी.
मैंने भी मुठ मारनी शुरू कर दी.

उसकी नंगी जवानी, उसकी हर अदा, उसकी मादक सिसकारियां देख सुन कर मैं अपने आपको रोक नहीं पा रहा था.
फिर हमने वीडियो कॉल पर ही एक दूसरे को शांत कर दिया.

उसके बाद हम दोनों सो गए.
अगले दिन जब मैं सो कर उठा तो मुझे हर वक्त उसके जिस्म की ही याद आ रहा थी.

मैं उसके साथ कहीं दूसरी जगह मिलने का प्लान ही बना रहा था कि उसने बताया कि उसका पति सात दिन के लिए जॉब के सिलसिले कहीं जा रहा है. मेरे घर आ जाओ.
उसके घर सिर्फ वो और उसका पति ही रहता था.

यह बात सुनकर मैं बहुत खुश हो गया.

उसने मुझे अपने घर का पता भेज दिया.

जैसे ही अगले दिन उसका पति गया, मैं उसके घर जाने के लिए निकल गया.

मैं साथ में उसके लिए गिफ्ट ले लिया था.

मैं वहां पहुंचा, दरवाजे पर दस्तक दी, उसने दरवाजा खोल दिया.
जैसे ही दरवाजा खुला, मेरे सामने रूप सुंदरी खड़ी थी.

मेरी आंखें और मुँह खुला का खुला रह गया.
उसने एक झीना सा शॉर्ट नाइट ड्रेस पहना था जिसमें उसकी पूरी टांगें दिख रही थीं.

उसने हंसते हुए कहा- बस देखते ही रहोगे या अन्दर भी आओगे!

उसके घर के आसपास ज्यादा घर नहीं थे इसलिए कोई दिक्कत नहीं थी.

मैं अन्दर आ गया और उसने दरवाजा बंद कर दिया.
मैंने उसकी गांड पर जोर से चमाट मारते हुए गांड दबा दी.

उसके मुँह से आआआह निकल गया.
वो मुझसे लिपट गई और किस करने लगी.
किस करते करते मैं उसके मम्मों को और गांड को दबा रहा था जिससे वो बहुत गर्म हो रही थी और बहुत उछल रही थी.

मैंने उसको अपनी गोद में उठा लिया और सोफे पर ले जाकर पटक दिया.
वो खिलखिला रही थी.

मैं उसके ऊपर चढ़ कर उसे किस करने लगा.
मैरिड गर्ल भी मेरा पूरा साथ दे रही थी.

उसने ब्रा नहीं पहनी थी जिसकी वजह से उसके उभरे हुए संतरे बाहर आ रहे थे.
मैं उसके दिनों चूचों को बारी बारी से चूस रहा था और वो भी मादक अंगड़ाई लेकर अपने तने हुए दूध बारी बारी से मेरे मुँह में देती हुई खिंचवा रही थी.
उसे अपने दूध खिंचवाने में बड़ा मजा आ रहा था.

अपना एक हाथ मैंने उसकी चूत पर रखा तो देखा कि उसकी पैंटी गीली हो चुकी थी.
मैंने उसकी पैंटी में हाथ डाल दिया, इससे वो एकदम से सिसकारियां लेने लगी.

वो- आह राज मर गई … ओह आह चोद दो मुझे … आह.

जैसे ही मैंने उसकी चूत में उंगली डाली तो ऐसा लगा मानो उसके अन्दर गर्म लावा उबल रहा हो.
वो अपनी गांड उठा उठा कर आहें भर रही थी.

मैंने बहुत तेज़ी से उंगली करना चालू कर दिया.
उसको तो मानो जन्नत मिल गई हो … वो वैसे आवाजें निकाल रही थी.
उसने मुझे एकदम कसके पकड़ रखा था.

तभी उसकी चीख निकल गई.
पूरे घर में चीख सुनाई दे रही थी.
वो झड़ गई थी और मुझे लिपट गई थी.

कुछ देर तक वो कांपती रही, फिर सयंत होकर उसने मुझे अपने नीचे लिटा दिया.

मैं कुछ करता कि वो मेरे ऊपर चढ़ गई. मैं उसकी गांड को सहला रहा था और वो अपनी दोनों टांगें मेरे दोनों ओर करके बैठ गई थी.

मैंने अपनी एक उंगली उसकी गांड के छेद में डाल दी.
वो उछल गई और उसकी हल्की सी सिसकारी निकल गई- आंह बदमाश … थोड़ी देर रुक जाओ ना बेबी … अभी ही सब कर लोगे क्या!
उसने मुझे प्यार से किस करते हुए कहा.

फिर वो उठ कर किचन की ओर गई. वो उधर से मुझसे कुछ खाने के लिए पूछ रही थी.

मैंने कहा- आज तो तुम्हें ही खाने का मूड है.
उसने कहा- अच्छा जी, देखती हूं क्या क्या खाते हो!
मैं- हां देखते रहना … क्या क्या खाऊंगा!

वो किचन में मेरे लिए खाना गर्म करने लगी और मैं टीवी देखने लगा.

टीवी देख कर मैं बोर हो रहा था. मैंने सोचा कि किचन में जाकर देखता हूं कि क्या कर रही है मेरी प्रियंका रानी.

किचन में वो खाना गर्म करने के साथ रोटी बनाने में भी व्यस्त थी.
उसकी शॉर्ट नाइट ड्रेस की वजह से उसकी आधी गांड दिख रही थी जिसे देख कर मेरा लौड़ा खड़ा हो गया.

मैंने पीछे से जाकर उसको हग कर लिया और अपना तना हुआ लंड को उसकी गांड पर सैट कर दिया.
मैं उसके गले पर किस करने लगा जिससे वो गर्म हो गई.

अब वो अपनी कमर हिलाने लगी. वो गांड को पीछे की तरफ धकेल रही थी और लंड को सहला रही थी.
मैं उसकी गांड को पकड़ कर सहला रहा था.

मैंने अपने लंड को आज़ाद कर दिया और उसकी गांड पर सैट कर दिया.

मैं चुदाई करने के मूड में आ गया था और उसकी गांड पर लंड रगड़ रहा था.

वो भी समझ गई और गैस बंद करके आगे की तरफ झुक गई. वो अपनी गांड को दबा रही थी.

मैंने उसके बोबों को दबा दबा कर निचोड़ दिया.

तभी उसने अपना हाथ पीछे लाकर मेरे लंड को हिलाया और अपनी पैंटी एक तरफ करके चूत के छेद में सैट करने लगी.
मैंने उसकी पैंटी को नीचे सरका दिया और लंड को चूत में डालने लगा.

जैसे ही थोड़ा सा लंड अन्दर गया, उसकी चीख निकल गई- आआह राज … मर गई … निकालो इसे … तुम्हारा बहुत बड़ा है!
मैं- बेबी थोड़ा ही दर्द होगा.

मैं फिर से घुसाने लगा पर उसकी चूत ज्यादा गीली न होने के कारण आसानी से नहीं जा रहा था.

अब मैंने उसको घुमाया और घुटनों के बल बिठा दिया, उससे लंड चूसने को बोला.
वो तो मानो उसी का इन्तजार कर रही थी, मेरे बोलते ही भाभी ने लंड को मुँह में ले लिया.

वो किसी एक्सपर्ट की तरह लंड चूस रही थी, एकदम अन्दर तक लंड लेकर चाट रही थी.
मुझे तो जन्नत के सुख का अनुभव हो रहा था.

करीब 10 मिनट तक लौड़ा चूसने के बाद मैंने उसको खड़ा कर दिया और फिर से उल्टा करके उसकी चूत में लंड घुसेड़ दिया.
इस बार पहले एक जोर का झटका देते ही आधा लंड उसकी चूत में चला गया.

पोर्न गर्ल की चीख निकल गई- आआ आह साले धीरे कर … मार डालोगे क्या!
जैसे ही इतना बोला कि मैंने फिर से जोर का झटका देते ही पूरा लंड घुसेड़ दिया- ले मादरचोद … लंड खा साली कुतिया.

भाभी की आंख से आंसू निकल आए.
मैं- अब क्यों नहीं बोलती धीरे कर … अभी मजा आएगा … डर मत मेरी जान … आज तुझे सिर्फ मजा आएगा और कुछ नहीं होगा.

मैंने उसको धीरे धीरे चोदना शुरू कर दिया, जिससे उसका दर्द कम होता गया. उसको अब पूरा मजा आने लगा था.

‘आआअह राज, तुम कमाल के हो … मेरे पति का लंड इससे आधा होगा … आआहाह चोदो मुझे … आआआहा चोद दे साले …’

मैं उसकी गांड पर लगातार थप्पड़ भी मारता जा रहा था जिससे वो और ज्यादा गर्म हो रही थी.
उसकी कामुक सिसकारियां सुनकर मुझे बेहद मजा आ रहा था.

भाभी अपनी गांड को पीछे धकेल धकेल के चुदवा रही थी.
करीब 20 मिनट तक चोदने के बाद मैं झड़ने वाला था.
उतनी देर में भाभी दो बार झड़ चुकी थी.

‘मैं झड़ने वाला हूं … माल कहां निकालूँ?’

वो झट से पलट कर नीचे बैठ गई और मेरे लंड को जोर जोर से चूसने लगी.
मैं उसके बाल पकड़ कर उसके मुँह को जोर जोर से चोदने लगा.

उसके मुँह को ज़ोर से पकड़ के अन्दर तक लंड को दबाता हुआ झड़ गया.
वो सारा माल पी गई और लंड को चूस चूस कर उसने साफ कर दिया.

फिर हम दोनों ने किस किया.

वो बोली- अब कुछ खा लो.
हम दोनों ने बैठ कर खाना खत्म किया और उसके बाद दुबारा लग गए.

इस बार मैंने प्रियंका भाभी की गांड कैसे मारी और एक हफ्ते तक क्या क्या किया, वो सब अगली सेक्स कहानी में लिखूंगा.

यह मैरिड गर्ल पोर्न कहानी आपको कैसी लगी? मुझे बताएं.
धन्यवाद.
[email protected]

About Abhilasha Bakshi

Check Also

भाई के बॉस के लड़के से चुद गयी मैं

टीन वर्जिन बुर Xxx कहानी में मेरा भाई जॉब करता था और मैं पढ़ती थी. …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *