दोस्त ने चुदक्कड़ भाभी को चोदा (Live Sex Show Dekha)

मैंने लाइव सेक्स शो देखा. मैंने एक भाभी को अपने दोस्त के घर में दोस्त से पूरी नंगी होकर चुदाई करवाते देखा. देखकर मेरा मन कर रहा था कि मैं भी कमरे में घुसकर भाभी को चोदूं.

मेरा नाम दीपक है. अन्तर्वासना में मैं नया लेखक हूँ. मुझसे गलती होना लाजिमी है. प्लीज़ किसी भी गलती के लिए माफ़ करना दोस्तो.

यह लाइव सेक्स शो मैंने अपने दोस्त के घर में देखा.

मेरा एक पवन नाम का दोस्त था. वो साला बहुत बड़ा चोदू था. काफी लुगाइयों को चोद चुका था.

जब भी मैं उससे मिलता, तो वो मुझे अपने फोन में हॉट भाभी और लड़कियों की फोटो दिखाता और मुझे बताता कि उसने इन सबको चोदा है.
मुझे उसकी बातों पर भरोसा नहीं होता था … पर वो मेरे सामने ही कॉल पर किसी लड़की से सेक्स की बात करता तो मुझे भरोसा करना पड़ता.

कई के तो सामने से कॉल भी आते थे. वो मेरे सामने उनके साथ सेक्स की बातें करता.

उसकी गर्म बातें सुनकर मैं भी गर्म हो जाता.

मैंने उससे कहा- यार, एकाध से मेरा भी टांका भिड़वा दे. मतलब सैटिंग करा दे.
उसने बोला- मैं तुझे मिलवा सकता हूँ, पर बात तो तुझे ही करनी होगी.
मैंने हां बोल दिया- चल देखता हूँ.

उसने मुझे एक भाभी से मिलवाया और वो मुझे पसंद आ गई.
मैंने अपने दोस्त के कान में बोला- मैं इस चोदना चाहता हूँ, ये सही माल है.
उसने भाभी के सामने ही मुझसे कहा- अरे हां ठीक है ना … जब मन हो तब आ जाना. ये तो अपनी भाभी जी ही हैं.

उसकी बात सुनकर मेरी गांड फट गई, लेकिन भाभी ने हंस कर मेरी तरफ देखा तो मन को तसल्ली हुई कि भाभी लंड ले लेगी.
पर तब भी मेरी उस भाभी से बात करने की हिम्मत नहीं हुई.

फिर एक महीने के बाद दोस्त का कॉल आया.
वो बोला- तू उसे लेकर मेरे घर आ जा. मैंने उसे तेरा नम्बर दे दिया है. वो तुझसे बात कर लेगी. उससे बात कर ले और उसे मेरे लंड से चोदने के लिए ले आ.

इस तरह से उसने मुझसे भाभी को लाने को कहा.

मैंने उस भाभी को कॉल लगाया, तो कॉल उठा नहीं.
मैं समझ गया कि ये केएलपीडी हुई है.

अभी मैं वापस अपने दोस्त को फोन लगाने ही वाला था कि मेरे फोन की घंटी बजने लगी.

मैंने देखा तो भाभी का कॉल आ रहा था.
मैंने फोन उठाया और हैलो कहा.

भाभी एक जगह का पता बताती हुई बोलीं- मैं यहां खड़ी हूँ. आप लेने आ जाओ.
मैं समझ गया कि भाभी चुदने को रेडी हैं. इसीलिए पलट कर कॉल किया है.

मेरा भी लंड गर्म ही गया था.
मैं घर से निकला और गाड़ी लेकर भाभी की बताई जगह पर पहुंच गया.

मैंने भाभी को फिर से कॉल किया कि आप किधर हैं?
भाभी ने मुझे लोकेशन समझाई. वो जगह मेरे पास ही थी.

मैंने उनसे कहा- सफ़ेद आई ट्वेंटी दिख रही है आपको … मैं उसी में हूँ.
भाभी की नजर मुझ पर पड़ गई और उन्होंने दूर से अपना हाथ हिलाया.

मैंने भी फ़्लाइंग किस हवा में उछाल दी.
उन्होंने मुँह पर स्कार्फ लगा रखा था.

वो मेरे पास आईं और गाड़ी का गेट खोल कर चुपचाप बैठ गईं.
मैंने उनकी तरफ देख कर हल्की सी स्माइल दी तो वो धीमे से बोलीं- इधर से गाड़ी आगे बढ़ाओ.

मैंने ओके कहा और गाड़ी आगे बढ़ा दी.

मेरी नजरें भाभी के मस्त यौवन से हट ही नहीं रही थीं.
भाभी बोलीं- सामने देख कर कार चलाओ. कहीं किसी में घुसेड़ ना देना.

मैंने कहा- आप बहुत सुंदर लग रही हैं. मेरी नजरें आप से हट ही नहीं रही हैं.
वो हल्के से हंस दीं.

सच में यार भाभी एकदम हॉट लग रही थीं. उनका फिगर भी मस्त था.
फिर मैंने उनका नाम पूछा.
भाभी ने सीमा बताया.

मैंने उनसे और भी बात करना चाही, पर वो कुछ ज्यादा नहीं बोल रही थीं.

फिर 30 मिनट बाद हम दोनों दोस्त के घर पहुंच गए.

अन्दर जाते ही भाभी ने अपना स्कार्फ हटाया तब मैं तो उन्हें देखता ही रह गया.

हालांकि मैं पहले भी भाभी को देख चुका था पर अब दोबारा देखकर मैं उनकी प्रशंसा किये बिना ना रहा सका.
सच में भाभी कयामत थीं … हल्की सी सांवली थीं, पर लंड खड़ा कर देने वाली माल भाभी थीं. उनके दूध भी काफी बड़े थे.

मैं उसी पल भाभी को चोदने के सपने देखने लगा.
फिर हम तीनों कुछ देर बैठे बैठे बात करने लगे.

मेरे दोस्त ने बियर की तीन कैन सामने रखीं, तो हम तीनों बियर पीने लगे.

मेरा दोस्त मुझसे बोला- तुम इस रूम में यहीं बैठो. मैं अभी आता हूँ.
मैंने हां कर दी.

मेरा दोस्त उस भाभी को दूसरे कमरे में ले गया.
मुझे पता था कि वो भाभी उस कमरे में मेरे दोस्त से चुदेगी.

फिर कुछ देर बाद उस रूम से ‘अह हह … उफ्फ …’ की आवाजें आने लगीं.
मेरा मन किया कि मैं भी तो देखूं अन्दर क्या चल रहा है.

मैंने खिड़की में से देखा तो पवन भाभी की चूत को जीभ से चोद रहा था और भाभी ‘आआह … आहह …’ कर रही थीं.

चुदाई का सजीव दृश्य देख कर मेरा लवड़ा भी गर्म हो गया.
फिर भाभी पवन के लौड़े को मुँह में लेकर चूस रही थीं.

सच में मन तो किया कि इन दोनों के इस मादक खेल में मैं भी शामिल हो जाऊं.
पर दोस्त ने मना किया था तो लंड पकड़ कर चुप रह गया.

मैं बस बाहर से चुदाई का मजा ले रहा था और अपने हाथ से अपने लंड को सहला रहा था.

कुछ देर बाद पवन ने भाभी को कुतिया बनाया और पीछे से लंड पेल कर चोदना चालू कर दिया.
भाभी मस्ती से ‘आहह … आहह …’ करती हुई चुदवा रही थीं.

कुछ देर कुतिया बना कर चोदने के बाद पवन ने भाभी को लौड़े पर बैठ कर लंड की सवारी करने का इशारा किया.

भाभी हां करके आगे को हो गईं, जिससे पवन का लंड चूत में से पक्क की आवाज करता हुआ बाहर निकल गया.

अब पवन चित लेट गया.
उसका लंड गजब चमक रहा था. लंड पर चूत का रस बड़ा ही चमक मार रहा था.

भाभी गांड हिलाती हुई आईं और पहले लंड को मुंह में लेकर चाटने लगीं.

पवन आह आह करता हुआ भाभी के दूध मसलने लगा.
फिर भाभी ने जीभ से पूरे लंड को चाटा और यम्मी लौड़ा कह कर पवन को आंख मार दी.

भाभी की अश्लील मुद्रा इतनी अधिक कामुक थी कि मेरे लंड में एकदम से सनसनी सी हो गई.

फिर भाभी गांड फैला कर लंड पर अपनी चूत सैट करने लगीं.
पवन ने हाथ से लंड चूत में लगाने की कोशिश की तो भाभी ने उसके हाथ को पकड़ कर झटक दिया.
वो बोलीं- उसने जन्नत का रास्ता देखा है डियर … जरा कमाल तो देखो.

भाभी ने सही कहा था, पवन के कड़क लंड ने भाभी की चूत में सही छेद में मुँह लगा दिया था.
लंड के सुपारे ने भाभी की चूत की चुम्मी ली तो भाभी ने अपनी गांड दबा कर लंड को झटका मार दिया.

लंड ने भी फनफना कर चूत में हमला कर दिया.
भाभी की आह निकली और लंड चूत में घुसता चला गया.

उस समय पवन ने भी नीचे से अपनी गांड उठा दी और लंड सनसनाता हुआ सीधे भाभी की चूत की जड़ में बच्चेदानी से जा टकराया.
भाभी की आह तेज निकली और पवन ने भाभी के दोनों दूध पकड़ कर उन्हें अपनी तरफ खींच लिया.

अब वो भाभी को अपने लौड़े पर बिठा कर चोदने लगा और भाभी भी गांड हिला हिला कर लंड से अपनी चूत की खुजली मिटवाने लगीं
भाभी ‘आह उम्म मार दिया रे … आह …’ बोल कर उछल उछल कर चूत चुदवा रही थीं.

पवन भी उनके एक दूध को मुँह में लिए और दूसरे दूध को हाथ से मरोड़ता हुआ धकापेल मचाए हुआ था.

‘ओहहह अह हह पवन चोद दे मुझे … अहह बहुत प्यासी हूँ मैं … आह.’

मेरा दोस्त भी चिल्ला चिल्ला कर लौड़ा अन्दर बाहर किए जा रहा था- आह हां भाभी … ले लंड का मजा ले ले भाभी … आह बड़ा मस्त माल हो तुम … आह!

उन दोनों की चुदाई फुल स्विंग पर थी और देखने से ही समझ आ रहा था कि किसी भी समय विस्फोट हो जाएगा.

हुआ भी यही … एक मिनट से कम समय में दोनों का पानी एक साथ निकल गया और वो दोनों एक दूसरे से बुरी तरह से चिपक गए.

कुछ देर बाद पवन भाभी से अलग हुआ और उसने भाभी से मेरी बात की.
पवन- भाभी, बाहर मेरा दोस्त है, वो भी तुम्हें चोदना चाहता है.
भाभी ने मना कर दिया.

मैं सब सुन रहा था. मुझे बड़ी मायूसी हुई.
इस तरह से लाइव सेक्स शो की समाप्ति हुई.

फिर वो दोनों कपड़े पहन कर मेरे पास बाहर के रूम में आ गए.

मैंने दोस्त से इशारे से पूछा- क्या हुआ?
पवन ने भी इशारे से कहा- तू ट्राई कर वो मान जाएगी.

फिर हम सबने बैठ कर चाय पी और इधर उधर की बातें करने लगे.
भाभी ने पवन से कहा- अब मुझे जाना है.

पवन ने मुझसे भाभी को छोड़ आने का कहा.

साथ ही उसने मुझे थम्ब दिखाते हुए बेस्ट ऑफ़ लक का इशारा किया.
मैं भाभी को गाड़ी में पीछे की सीट पर बिठा कर निकल पड़ा.

मैं गाड़ी चला रहा था और गाड़ी के शीशे में भाभी को देख रहा था.
फिर मैंने भाभी से बात करनी शुरू की मैंने भाभी से कहा- भाभी, आप बहुत हॉट हो और सेक्सी भी हो. आप मुझे बहुत पसंद हो.

भाभी ने कुछ नहीं कहा वो चुप रहीं.
मुझे लगा कि वो बुरा मान गयी हैं.

फिर मैं चुपचाप गाड़ी चलाने लगा.
मैं अन्दर से दुखी हो रहा था और रास्ता भी कम हो रहा था.

मैंने फिर से हिम्मत की और भाभी से कहा- भाभी, मैं चूत को अच्छे से चाट लेता हूँ. पवन से भी अच्छी तरह से चाट लेता हूँ. मैं आपको बहुत खुश रखूँगा.

भाभी सब सुन रही थी, पर कोई जवाब नहीं दे रही थीं.
मैं भाभी से नॉर्मल बातें करने लगा.

मैंने बोला- क्या मैं जान सकता हूँ कि आपकी उम्र क्या है?
तो भाभी बोलीं- मैं 38 की हूँ.

मैं बोला- ओहह पर आप इतनी बड़ी लगती नहीं हो.
भाभी ने मुझसे पूछा- तुम्हारी उम्र क्या है?

मैंने कहा- मैं 28 का हूँ और कुंवारा हूँ. तभी तो आपको चोदने के लिए तड़प रहा हूँ.
भाभी ने फिर से मौन साध लिया और कोई जवाब नहीं दिया.

कुछ पल बाद भाभी बोलीं- तुम क्या करते हो?
मैंने कहा- मैं जॉब करता हूँ.

यही सब बातें करते करते भाभी का स्टॉप आ गया और भाभी गाड़ी से उतर कर जाने लगी थीं.
भाभी को मैंने रोका और कहा- भाभी जैसे आप सेक्स की भूखी हो, वैसे मैं भी भूखा हूँ. आप मेरी तड़फ को समझ सकती हो.

भाभी पर मेरी बात को असर हो रहा था.
वो बोलीं- देखो मैं तुमसे चुदवाऊंगी, पर तुम्हें मेरी जरूरत को भी पूरा करना होगा.

मैं समझ गया कि भाभी मान गयी हैं.
मैंने हामी भर दी- हां भाभी, मैं आपकी हर जरूरत को पूरा करूंगा.

भाभी ने ओके बोला और जाने लगीं.
मैंने भाभी से कहा- ज्यादा वक्त मत लगाना मैं बहुत प्यासा हूँ.
भाभी हंस दीं और हम अलग हो गए.

अगली कहानी में मैं आपको बताऊंगा कि भाभी ने मुझसे किस तरह से चुदवाया.
आप मुझे मेल व कमेंट्स से बताएं कि आपको लाइव सेक्स शो कहानी कैसी लगी.
[email protected]

About Abhilasha Bakshi

Check Also

कुछ अधूरे से ख्वाब-1 (Kuchh Adhure Se Khwab- Part 1)

अन्तर्वासना के सभी पाठकों को मेरा नमस्कार! मेरा नाम मुकेश कुमार है, मैं एक इंजीनियर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *