मेरे दोस्त ने मेरी कुंवारी बेटी को चोदा- 2 (Beti Ki Chut Ki Kahani )

मेरी बेटी की चुत की कहानी में पढ़ें कि कैसे मैंने अपने घर में अपने दोस्त से अपनी सगी बेटी की चुदाई होती देखी. अंदर मैंने क्या नजारा देखा … आप भी जानें।

दोस्तो, कैसे हो सब? मैं आपको अपनी पैसे की मजबूरी में हुई घटना के बारे में बता रहा था. मेरी बेटी की चुत की कहानी के पहले भाग
मेरा दोस्त मेरी बेटी की चूत का प्यासा
में अब तक आप पढ़े चुके थे कि मेरे ठरकी दोस्त सुरेश ने पैसे उधारी देने के बदले में मेरी बेटी की चूत मांग ली थी.

हम पति पत्नी के पास कोई और रास्ता नहीं था और हमने सुरेश को घर बुलाकर अपनी बेटी सोनी को उसके साथ सुला दिया. बीवी के सोने के बाद मैं अपनी बेटी की चुदाई देखने लगा.

सुरेश ने मेरी बेटी की कच्छी खींचकर निकाल दी थी और वो अब किसी भी वक्त मेरी बेटी की चूत में लंड डालने ही वाला था. मैं ये सब उनके रूम के दरवाजे के बाहर खड़ा हुआ देख रहा था और अपने लंड को सहला रहा था.

अब आगे मेरी बेटी की चुत की कहानी:

धीरे धीरे सुरेश ने सोनी को इतना गर्म कर दिया कि उसे कुछ पता ही नहीं चल रहा था कि सुरेश क्या करने वाला है उसके साथ?
सुरेश ने धीरे से सोनी की गांड अपनी छाती की तरफ घुमाई और सोनी का सिर सुरेश के पेट की तरफ हो गया।

सोनी ने अपने गाल ठीक उसके उभरते हुए लण्ड के ऊपर टिका दिए.
इधर सुरेश की आँखें आनंद में बंद थीं और उसका चेहरा अब सोनी की गांड के बीच में था.

ये सीन देखकर मैंने भी अपने छोटे से लण्ड को सहलाना शुरू कर दिया.
सुरेश अब सोनी का पिछवाड़ा चाट रहा था और अपने मुंह से उसकी जांघों के बीच में खुदाई जैसा कुछ कर रहा था.

सोनी का हाथ सुरेश के कच्छे के उभार पर आकर रुक गया और तभी सुरेश ने अपने एक हाथ से सोनी का दायां हाथ पकड़ा और अपने कच्छे के अंदर घुसा दिया.

पहले तो सोनी ने एक झटके से हाथ बाहर निकाला मगर सुरेश ने उसके चूतड़ चौड़े किये और फिर अपना चेहरा दाएं बाएं किया और उसकी चूत-गांड को चाटकर सोनी की सिसकारी निकाल दी.

अब सोनी ने भी उत्तेजना में अपना हाथ उसके कच्छे के अंदर घुसा ही दिया. उसने सोनी को इतना गर्म कर दिया था कि वो बेचैन हो उठी और उसके लण्ड को देखने के चक्कर में वो सारी शर्म भूल गयी.

मेरी बेटी ने सुरेश का कच्छा खींचना चाहा मगर उसके कच्छे के इलास्टिक के साथ ही उसका लण्ड भी खिंचता चला गया.
सोनी इतनी बदहवास हो चुकी थी कि उसे पता ही नहीं था कि वो दोनों क्या कर रहे हैं?

जैसे ही सोनी ने अंडरवियर का इलास्टिक लण्ड के ऊपर से उतारा तो सोनी की आंखों की पुतलियां फ़ैल गयीं.
वो गर्दन घुमा कर इधर उधर दोनों साइड से देखने लगी कि ये है क्या?

फिर सोनी ने अपनी छोटी सी हथेली से सुरेश के लंड को मुट्ठी में पकड़ना चाहा मगर वो असफल रही. फिर भी जैसे ही उसने लंड को देखा उसने एक लम्बी गहरी साँस लेकर आअह … कहा.
उसे इसकी उम्मीद नहीं थी कि सुरेश अंकल के पास ऐसा भारी भरकम सामान होगा।

खैर सोनी इतनी गर्म हो गयी कि मुझे भी अंदाजा नहीं लगा कि वो अपना मुंह खोल कर उसके लंड को मुंह में लेने की कोशिश करेगी!

सोनी की आँखें आनंद में बंद थीं और वो सुरेश के लौड़े का गुलाबी टोपा चूसने के लिए जैसे मरी जा रही थी.
वो बार बार टोपे को चूसकर मजा ले रही थी.
जब उसके लंड का टोपा मेरी बेटी के कोमल से मुंह में जाता तो उसके गाल फूलकर गुब्बारा हो जाते थे.

वो अपनी मुट्ठी में टोपे को लेकर चूस रही थी और फिर पूरे लंड पर नीचे से ऊपर हाथ फिराकर उसको महसूस करने की कोशिश कर रही थी.
अपनी बेटी की लंड के लिये तड़प देखकर मैं भी हैरान था.

सोनी की जुल्फें सुरेश की जांघों पर बिखर गयी थीं.
उधर साला सुरेश अपने नाक और मुंह से उसकी जवानी की खुदाई करने में लगा हुआ था.
साला ऐसे सोनी की चूत चाट रहा था जैसे पता नहीं उसमें से शहद निकल रहा हो।

फिर अचानक कुछ ऐसा हुआ कि मैं भी हैरान रह गया.
सोनी ने अपने चूतड़ ऊपर उठाये और सुरेश के मुंह पर मूतना शुरू कर दिया.
उसने तीन बार तेज तेज धार मारी और फिर ढीली हो गयी.

सुरेश ने अपना मुंह खोल रखा था. उसे सोनी का मूत पीते देख कर मुझे बेहद आश्चर्य हुआ.
सोनी भी उसके लंड से खेल रही थी.

तभी सुरेश ने सोनी को नीचे बेड पर लिटा दिया और खुद अपने आप उसके ऊपर सवार हो गया.

उसके भारी बदन के नीचे मेरी बेटी जैसे दब सी गयी थी. पता नहीं सोनी उसके बदन का भार कैसे सहन कर रही थी जबकि वो बहुत नाजुक कली की तरह थी।

सुरेश ने अब अपनी बनियान भी उतार दी और सोनी की स्कर्ट भी। सुरेश का बदन सांवला था और काफी गठीला था. उसकी हाइट करीब 5 फीट और 10 इंच की थी जबकि सोनी की हाइट सिर्फ चार फ़ीट नौ इंच।

मैं अभी भी दरवाजे की ही तरफ से झिरी से देख रहा था. सुरेश के कसे हुए लम्बे लम्बे आंड और काला तना हुआ लौड़ा देख कर मेरे बदन में भी झुरझुरी उठ गयी.

वो मेरी बेटी सोनी की चूत के मांस को हिला रहा था. तभी मेरी नज़र सोनी की चूत पर पड़ी. उसकी चूत को सुरेश ने अपने अंगूठे और उंगली से फैला रखा था.

सिर्फ पौना इंच लम्बा गुलाबी कट दिखाई दे रहा था. मेरा खुद का छोटा सा पांच इंची लण्ड इस नजारे को देखकर मस्ताने लगा.
वो भले ही बेटी मेरी थी किंतु मर्द साला मर्द ही होता है.

किसी विद्वान ने कहा है कि पुरुष को एकांत में माँ, बहन या फिर बेटी किसी के साथ नहीं रहना चाहिए क्योंकि सारी मर्यादाएं भंग हो जाती हैं. उसके लंड के लिए योनि केवल एक योनि ही होती है चाहे फिर वो किसी की भी हो.

मैंने अपनी आँखें बिल्कुल झिरी पर गड़ा दीं.

सुरेश बार बार अपने लम्बे, मोटे, काले, सख्त लण्ड को सोनी की चूत पर नीचे से ऊपर की तरफ हल्के हल्के घिस रहा था और सोनी के मुंह से सी … सी … की आवाजें आ रही थीं.

मुझे तो अन्दाजा था कि साला सुरेश उसे तरसा रहा है क्योंकि औरत जात जब गर्म हो जाती है तो उसे पुरुष का साथ अच्छा लगने लगता है.
सुरेश जैसे ही लण्ड उसके छेद पर रख कर छुवाता था उसका लण्ड रपट जाता था.

सोनी की आँखें बंद थीं और उसके गोरे गोरे हाथ सुरेश की कमर पर थे.

सुरेश ने सात आठ बार ऐसे ही लंड घिसाया.
उसने फिर वैसलीन की डिब्बी से उंगली पर वैसलीन लगायी और लण्ड के सुपारे पर मल दी.

उसने सोनी की चूत को सहलाया और मेरी बेटी वासना में सिसकार गयी.
अब उसे पता नहीं था कि उसकी चूत के साथ क्या बेरहमी होने वाली है.

सुरेश ने वैसलीन लगे अपने लंड के सुपारे को सोनी की चूत पर सटाया और अगले ही पल सोनी जोर से चीख पड़ी- आआ … मर गयी … ऊईई मां … हाय … आह्ह … स्सस … ओ अंकल … नहीं … आह्ह … उफ्फ!
सोनी बुरी तरह से छटपटा गयी.

मेरे ठरकी दोस्त ने लण्ड का टोपा मेरी बच्ची की चूत में पेल दिया था.
सुरेश अब हिल नहीं रहा था उसने सोनी के होंठ प्यार से तीन चार बार चूमे और उसके गाल थपथपाये.

सुरेश का गुलाबी टोपी सोनी की चूत की गर्दन में फंसा हुआ था.
करीब एक मिनट तक सुरेश ने टोपा वहीं रहने दिया. फिर धीरे से अपनी गांड हिलायी और फिर सोनी की आह निकल गयी।

उसका लण्ड सोनी की नन्हीं सी चूत में फंसा हुआ था.
सुरेश ने झटके मारे तो सोनी चिल्लाने लगी- नहीं … अंकल नहीं … अंकल आह्ह … नहीं … बहुत मोटा है … प्लीज नहीं!

सुरेश ने उसे समझाया- सोनी चुप … बस बस … हो गया है. अब और दर्द नहीं होगा.
ये कहकर सुरेश अपनी गांड हिलाने लगा.
सोनी अब चुप तो थी मगर उसके मुंह से आह आह की आवाज आने लगी.

उसके अंकल का काला कोबरा जैसा मोटा लंड उसकी चूत में जगह बनाने में लगा हुआ था.

मेरे खून का प्रवाह भी मेरे शरीर में तेज हो गया था. मैं हैरान था. मैंने कभी भी नहीं सोचा था कि सोनी इतने बड़े मर्द को सह लेगी।

अब सुरेश का लण्ड सोनी की चूत को रौंद रहा था.
उसने अपने घुटने ऊपर उठा कर मोड़ लिए थे।

सोनी की चूत का छेद करीब एक इंच खुला हुआ था. इसका मतलब साफ था कि सुरेश के लण्ड की गर्दन दबी हुई थी मगर सुरेश फिर भी सोनी को चोदने में लगा हुआ था.
सोनी बीच बीच में अपनी गांड उठा रही थी और सुरेश का लंड धीरे धीरे सोनी के अंदर जा रहा था।

सोनी ने एक बार तो अपनी दोनों जांघों से सुरेश की कमर को लपेट लिया और उसके कन्धों को अपने हाथों से.
ऐसा सीन मैंने पहले कभी नहीं देखा था.
एक तरह से मेरी बेटी सोनी हवा में उसके बदन से लटकी हुई थी.

सुरेश बार बार उसे बिस्तर पर टिका कर धक्का मार रहा था.
बीच बीच में सोनी अंकल … अंकल … चिल्ला रही थी और सुरेश पर तो हवस का भूत सवार था.
सोनी की चूत से कुछ खून जैसा बह रहा था हालाँकि वो काफी कम मात्रा में था.

सुरेश का लंड इस समय लाल सरिये की तरह दिख रहा था.

सोनी ने तीन चार बार सुरेश के कंधे पर दांत गड़ा दिए मगर उसे कोई फर्क नहीं पड़ रहा था.
सुरेश की काली, चौड़ी, हष्ट-पुष्ट गांड देख कर ही उसकी ताकत का अंदाज लगाया जा सकता था।

उसका लण्ड लाइट में ऐसे चमक रहा था जैसे कि भैंस का चमड़ा, जिस पर तेल लगा हो।
सोनी लगातार चीखती जा रही थी.
सुरेश ने सोनी के अंदर करीब छह इंच लण्ड अंदर घुसा दिया था और जो हिस्सा बाहर रह गया था उसकी नसें काफी फूल गयी थीं.

लंड का पीछे का हिस्सा ऐसे दिख रहा था जैसे किसी मोटे काले डन्डे पर कोई चमड़े की थैली फिट हो. पता नहीं कहाँ से साले के अंदर इतनी ताकत भर गयी थी।

उसने इसी पोजीशन में सोनी को करीब आठ मिनट चोदा।

फिर उसने लंड को बाहर निकाला और सोनी की चूचियां दबाने लगा. फिर उसने सोनी को पेट के बल लिटा लिया और अब सोनी की पीठ और गांड सुरेश के सामने थी.

उसने सोनी की दोनों जांघें फैलाईं और उसके ऊपर लेट गया.

मैं काफी डर गया क्योंकि अक्सर ज्यादातर मर्द इसी पोजीशन में लड़की की गांड मारते हैं. मैंने मन में सोचा कि यार ये तो बहुत बड़ी गलती हो गयी आज!! क्यों साले से पचास हजार रूपए उधार लिए?

मगर मेरा अंदाजा गलत साबित हुआ क्योंकि सुरेश ने उसकी गांड की बजाय चूत में दोबारा से लंड घुसाया था.
फिर उसे किसी भालू की तरह अपने आगोश में जकड़ लिया और लंड घुसाकर चोदने लगा.

अब फिर से सोनी की चीखें मेरे कानों में गूंजने लगीं. वो साला उसकी कमर पर मेंढक की तरह चिपक गया था और सोनी की गोरी गोरी चिकनी जांघें नब्बे डिग्री के कोण पर फैली हुई थीं.

हालाँकि मुझे ये सब अपने मुंह से आप लोगों को नहीं बताना चाहिए क्योंकि मेरी बेटी ही चुद रही थी.
मगर उस समय तो मुझे भी उसकी चुदाई पराये मर्द से देखने में असीम आनंद आ रहा था.

सोनी उसके लंड से बचने के लिए लगभग पूरे बेड पर घड़ी की सुईं की तरह घूम रही थी.
मगर वो कम्बख्त कहाँ मानने वाला था.
बेड पर कई जगह खून लग गया था और सलवटें पड़ गयी थीं।

सुरेश की जांघों और सोनी के चूतड़ों की टकराने की आवाजें मेरे कानों में साफ आ रही थीं और मुझे ऐसा लग रहा था जैसे सुरेश मेरे गालों पर लगातार थप्पड़ मार रहा हो मगर मैं एक बेबस बाप था.

मेरा दोस्त सुरेश मेरी बच्ची के कोमल जिस्म से अपने बदन की हवस शांत करने में लगा हुआ था.
फिर मुझे सोनी के पादने की जोर से आवाज आयी.

उस साले हरामी सुरेश ने उसके पेट को अपने मोटे लंड से इतना भर दिया था कि सोनी की गैस निकल गयी.

मैंने सोचा कि शायद ये अब तो उसे छोड़ देगा मगर उसे पता नहीं क्या जोश चढ़ा था. फिर उसने सोनी की चुटिया कस कर पकड़ ली और सोनी का धड़ आगे से धनुष की तरह पीछे को मुड़ गया.

सुरेश ने उसे धीरे से गाली दी- बहन की लौड़ी … मस्त हो रही है भैंस की तरह।
फिर तो वो जैसे जानवर बन गया.

सोनी की आंखों से आंसू बहते 15-20 मिनट हो गये थे.

फिर सुरेश ने अपने दोनों चूतड़ भींच लिए और बिल्कुल नीचे करके सोनी के चूतड़ों पर चिपक गया. मुझे बस सिर्फ उसके मोटे काले आंड दिखाई दे रहे थे.

सोनी ने अचानक अपने दोनों पैर घुटनों से मोड़ लिए और गर्दन झुका ली. सुरेश के चूतड़ रह रहकर हिल रहे थे. सोनी की जाँघें कंपकंपा रही थीं. शायद इसी समय सुरेश सोनी की चूत में अपना माल भर रहा था.

फिर दोनों ऐसे ही पड़े रहे. सुरेश थक गया था.

अब मेरे देखने लायक कुछ भी नहीं बचा था मगर फिर भी मैं सुरेश का मुर्झाया हुआ लंड देखना चाहता था।

कुछ देर बाद सुरेश का लंड जब मेरी बेटी की चूत से बाहर निकला तो ऐसे लग रहा था जैसे किसी कोबरा सांप की खाल छील दी गयी हो. सोनी की चूत ने उसका लंड बाहर धकेल दिया था क्योंकि अब उसमें जान नहीं थी.

सुरेश का लंड अब सिर्फ साढ़े पांच इंच लम्बा रह गया था और उसके लंड का टोपा आधा खाल से ढका हुआ रह गया था. वो सीधा लेट गया और उसके पेट पर मोटा लंड मुड़े हुए खीरे की तरह पड़ा था.

सोनी अभी तक ऐसे ही पड़ी थी.
सुरेश ने मेरी बेटी सोनी को सीधा किया और उसकी गर्दन को अपने बाएं हाथ के डोले का सहारा देकर अपने साथ सटा लिया.

ये देखकर मुझे बहुत सुकून मिला कि चलो चोदने के बाद इसे इतना ख्याल तो आया कि सोनी को प्यार की जरूरत है.

सुरेश सोनी की जुल्फों में हाथ फ़ेर रहा था और सोनी ने अपनी बायीं जांघ को सुरेश की जांघ के ऊपर रख दिया था.
सोनी के गोरे गाल सुरेश की छाती पर टिके हुए थे.

कुछ देर बाद सुरेश फिर उठा और उसने सोनी को अपनी गोद में ऊपर दोनों हाथों पर उठा लिया.
सुरेश ने उसी हालत मे सोनी की चूची पर किस किया.

इसके बाद सुरेश ने सोनी को कुछ कहा जिसे मैं सुन नहीं पाया मगर सोनी ने कोई जवाब नहीं दिया.
सुरेश ने सोनी को बेड के किनारे पर घुटनों के बल मेंढक की तरह होकर गांड ऊपर उठाने को कहा.

अब सुरेश का मक्कार लंड फिर से फुंफकार मार रहा था. सोनी ने अपने गोरे गोरे चूतड़ उठा दिये.
सुरेश ने झुक कर उसके चूतड़ों पर चुम्मा लिया और उसके चूतड़ थपथपाये।

फिर सुरेश ने अपना लंड उसकी चूत पर सटा दिया.
अब फिर से सोनी के मुंह से सेक्सी आवाजें आने लगीं.

सुरेश शुरू में तो उसकी चूत में लंड को फिट करता रहा और फिर दो मिनट बाद उसकी गांड ऊपर नीचे हिलने लगी.

एक बार फिर से सोनी ‘आह्ह … अंकल … आह्ह अंकल …’ करती हुी चिल्लाने लगी और उसके लंड को अपनी कोमल, छोटी सी चुदी हुई चूत में बर्दाश्त करने लगी.

सुरेश ने मेरी बेटी सोनी की कमर पकड़ रखी थी जिसके कारण वो जाल में फंसी हुई मछली की तरह फड़फड़ा रही थी. सुरेश को जैसे जैसे मजा आता जा रहा था तो उसने अपनी रफ्तार बढ़ा दी.

मेरी बेटी चीखने लगी और फिर सोनी उसकी पकड़ से छूट कर एकदम भागी और टेबल के नीचे छिप गयी.
मगर सुरेश ने सोनी की टांग पकड़ कर उसे टेबल के नीचे से बाहर निकाल लिया.

अब सुरेश ने सोनी को सामने से अपनी गोद में ऊपर उठाया और उसके एक हाथ से उसकी कमर अपनी बांह के घेरे में कसी और दाएं हाथ से लण्ड को खड़ा करके उसपर सोनी की चूत रखी.

फिर मेरे देखते देखते सोनी की चूत से हवा निकलने जैसी आवाज हुई.
सोनी एकदम से उछली और सुरेश के लंड का गुलाबी टोपा मेरी बेटी की चूत में फिर से गायब हो गया.

इसके साथ ही सोनी ने अपने दोनों हाथों का घेरा बना कर सुरेश की बांहों के नीचे से कस लिया.
अब सुरेश के दोनों हाथों की कुहनियों पर मेरी बेटी की गोरी जांघें टिक गयीं और फिर सुरेश अपने हाथों को जोर जोर से ऊपर नीचे लाने लगा.

सोनी की जुल्फें नीचे आते समय हवा में उड़ रही थीं.
ये देख कर मैं जल्दी से अपने कमरे में आया और बीवी से बोला- यार सुन … देख वो सुरेश ने तो हमारी बेटी को लण्ड पर उठा रखा है और उसे चोद रहा है.

वो नींद में उठी और बोली- ज्यादा नाटक मत करो. अगर तुम्हारे अंदर भी इतना दम है तो टांग देना तुम भी उसको ऐसे ही।
मैं अपनी बीवी की बात सुनकर और हैरान हुआ मगर फिर वही नजारा याद आया और मैं फिर से उन दोनों की चुदाई देखने के लिए दौड़ा।

सोनी की आँखें बंद थीं. उसकी मोटी मोटी गोरी जांघें देख कर मेरा लण्ड भी फनफनाने लगा.
मैं नीचे उकडू बैठ कर झिरी से देखने लगा- आह … मेरी बेटी का छेद करीब दो इंच की गोलाई लिए हुए था।

वो मादरचोद सुरेश अपने मोटे काले लण्ड को बार बार उसकी गुलाबी चूत में सूड़ रहा था और सोनी चीख सी रही थी.
ये सुन्दर नजारा ज्यादा देर तक नहीं चला और सुरेश की काली मोटी जांघें थरथराने लगीं.

फिर सोनी के चूतड़ों के नीचे ठीक बीच में मुझे सिर्फ दो बड़े बड़े गुलाबजामुन दिखाई दिए. लण्ड पता नहीं कहाँ समा गया था और फिर दोनों कुछ देर तक बुत की तरह खड़े रहे.

कुछ ही सेकंड बाद सुरेश के अण्डों के आस पास सफ़ेद गाढ़ा गाढ़ा माल बहकर निकलने लगा.

करीब 1 मिनट बाद सुरेश ने सोनी को बिस्तर पर धकेल दिया.

इधर मेरे लंड को सहलाते हुए मेरी चरम सीमा आ गयी थी.
मैं तुरंत आँगन की तरफ भागा और आड़ू के पेड़ पर लण्ड लगा कर उसी को चोदने लगा. मेरे ऊपर वासना ऐसी सवार थी कि ध्यान नहीं रहा कि लंड भी छिल जायेगा.

फिर मैंने भी पेड़ के साथ लंड रगड़ते हुए अपनी बेटी की चूत में सुरेश का लंड याद करके वहीं पर पानी छोड़ दिया.
अब मेरा बदन शांत हो गया था.

मैं वापस आकर अपनी बीवी के पास लेट गया और फिर कब मुझे नींद आ गयी पता ही नहीं चला।

इसके आगे की कहानी फिर कभी थोड़ी फुर्सत में आपको बताऊंगा.

मैंने अपनी बेटी की चुदाई अपनी आंखों के सामने देखी थी. आपको क्या लगता है कि इस स्थिति में जो कुछ भी हुआ क्या वो सही था या फिर इसका कुछ और विकल्प भी हो सकता था?

मेरी बेटी की चुत की कहानी पर मुझे आपके सुझावों का इंतजार है. अपने कमेंट्स में जरूर बतायें या फिर मुझे मेरी ईमेल में लिखें।
[email protected]

जीजा साली चुदाई की वीडियो देखें: दीदी ने बहन को अपने पति से चुदवाया

About Abhilasha Bakshi

Check Also

मेरा गुप्त जीवन- 171 (Mera Gupt Jeewan- part 171 Ladkiyan Mujhe apne Kamre Me Le Gai)

This story is part of a series: keyboard_arrow_left मेरा गुप्त जीवन- 170 keyboard_arrow_right मेरा गुप्त …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *